Monday, Oct 26, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 25

Last Updated: Sun Oct 25 2020 09:11 PM

corona virus

Total Cases

7,879,950

Recovered

7,091,148

Deaths

118,695

  • INDIA7,879,950
  • MAHARASTRA1,638,961
  • ANDHRA PRADESH804,026
  • KARNATAKA793,907
  • TAMIL NADU706,136
  • UTTAR PRADESH468,238
  • KERALA377,835
  • NEW DELHI352,520
  • WEST BENGAL349,701
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA279,582
  • TELANGANA229,001
  • BIHAR211,443
  • ASSAM203,709
  • RAJASTHAN182,570
  • CHHATTISGARH172,580
  • MADHYA PRADESH165,294
  • GUJARAT165,233
  • HARYANA157,064
  • PUNJAB130,640
  • JHARKHAND99,045
  • JAMMU & KASHMIR90,752
  • CHANDIGARH70,777
  • UTTARAKHAND59,796
  • GOA41,813
  • PUDUCHERRY33,986
  • TRIPURA30,067
  • HIMACHAL PRADESH20,213
  • MANIPUR16,621
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,207
  • SIKKIM3,770
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,219
  • MIZORAM2,359
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
smita-patil-birthday-special-smita-broke-all-the-ties-to-get-raj-babbars-love-jsrwnt

B'day Spl: राज बब्बर से बेइंतहा प्यार करतीं थीं स्मिता पाटिल, उठाया था इतना बड़ा कदम

  • Updated on 10/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सांवली सूरत और मदहोश आखों वाली स्मिता पाटिल (smita patil) लाखों दिलों की धड़कन हुआ करती थीं। स्मिता ने  बहुत सी यादगार फिल्में इंडस्ट्री को दीं। बहुत कम उम्र में वह दुनिया को अलविदा कह गईं थी। 13 दिसम्बर, 1986 को स्मिता पाटिल की मृत्यु हो गई थी। उस समय वे केवल 31 साल की थी। बॉलीवुड इंडस्ट्री में स्मिता एक ऐसा नाम है जिसे कोई कभी नही भुला सकता। स्मिता के पिता शिवाजी पाटिल  महाराष्ट्र सरकार में मंत्री रह चुके है व मां एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

#smitapatil

A post shared by Best of Bollywood (@bestofbollywood8) on Oct 15, 2020 at 5:45am PDT

पूणे में जन्मी स्मिता ने पढ़ाई भी वहीं से की। स्मिता पाटिल ने बतौर न्यूज रीडर शुरुआत की। उस जमाने में वे अक्सर पेंट और शर्ट पहन कर न्यूज पढ़ने जाती थीं।

फिल्मी करियर

स्मिता ने अपने 10 साल के छोटे से करियर में लगभग 80 फिल्में की और इनमें से कई एक से बढ़कर एक हिट फिल्में थी। उनके गाने भी सुपरहित हुआ करते थे। अमिताभ के साथ उनका गाना 'आज रपट जाए तो हमें न उठाइयो' आज भी लाखों लोगों का फेवरेट है। स्मिता ने अपने फिल्मी सफर में ऐसी फिल्में कीं, जो भारतीय फिल्मों के इतिहास में यादगार बन गईं। जिनमें ‘भूमिका’, ‘मंथन’, ‘मिर्च मसाला’, ‘अर्थ’, ‘मंडी’ और ‘निशांत’ जैसी फिल्में शामिल हैं, वहीं दूसरी तरफ अमिताभ बच्चन संग ‘नमक हलाल’ और अन्य फिल्म ‘शक्ति’ भी शामिल हैं।

अवॉर्ड से भरी रही छोटी सी जिंदगी

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Remembering Smita Patil on Her Birth Anniversary 💟✨ Legendary actress Rekha was all praises for Smita Patil at an award function. The evergreen actress said she will always consider Smita Patil as her younger sister. Rekha even confessed that Smita was a better actress than her and she has no objection admitting it. Rekha said, “I am here to receive this award which signifies the excellence of her craft, her acting, dancing abilities or her ability to be fearless in front of the camera or the way she could lift those beautiful eyes of hers and make a statement without saying a word." Remembering on Her Birth Anniversary 💟✨ #smitapatil #HappyBirthday #Rekha #longliverekhaji 🤞🏻 #amitabhbachchan ♥️ #memes #celebrity #paparazzi #shahrukhkhan #salmankhan 💃🏻#hdmakeup #trending #oldbollywood #aishwaryaraibachan #deepikapadukone #priyankachopra #ranveersingh #instastories #rekhathediva #instagram #fashionicon #rekhaji #anubhavpanwar #diva_the_rekha @_prat 🙌🏽💟

A post shared by Rekha (@diva_the_rekha) on Oct 16, 2020 at 12:57pm PDT

करियर शुरू करने के चार सालों के अंदर ही उन्होंने पहला नेशनल अवॉर्ड जीत लिया था। साल 1977 में उन्हें फिल्म 'भूमिका' के लिए नेशनल अवॉर्ड मिला, वहीं साल 1980 में फिल्म 'चक्र' ने उन्हें यह अवॉर्ड दिलाया। साल 1985 में उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया। इसके अलावा पांच बार बेस्ट एक्ट्रेस का फिल्म फेयर अवॉर्ड भी मिल चुका है।

लिव- इन में रहना

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

'Karoge yaad toh, har baat yaad aayegi' . Every generation's muse. Happy birthday, dear Smita! . #smitapatil

A post shared by Indigenous (@ind.igenous) on Oct 16, 2020 at 11:30am PDT

उस जमाने में लिव- इन में रहना बहुत बड़ी बात हुआ करती थी। जब राज बब्बर और स्मिता को प्यार हुआ तब राज पहले से ही शादीशुदा थे और जब यह बात जमाने के सामने आई तो स्मिता को चारों ओर से आलोचना झेलनी पड़ी। स्मिता के साथ राज बब्बर का प्यार इतना परवान चढ़ा की वह अपनी पत्नी नादिरा और बच्चों तक को छोड़ आए थे। राज और स्मिता लिव इन में रहे। बाद में दोनों ने शादी कर ली। 

राज बब्बर के तीन बच्चे हैं। जूही, आर्य और प्रतीक बब्बर। जूही और आर्य नादिरा से है और प्रतीक स्मिता और राज का बेटे हैं। स्मिता के निधन के बाद राज बब्बर फिर से अपनी पहली पत्नी नादिरा के पास वापस लौट गए थे। स्मिता के निधन के बाद नादिरा ने राज बब्बर को दोबारा अपनाया। 

बेटे को जन्म देने के बाद निधन

28 नवंबर 1986 को स्मिता ने बेटे प्रतीक बब्बर को जन्म दिया। इसके बाद वह घर आ गईं, लेकिन उनकी तबीयत ठीक नहीं थी। कुछ दिनों में ही उनकी हालत इतनी बिगड़ी की उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा, जहां एक-एक कर उनके सारे अंग फेल होने लगे और अंत में 13 दिसंबर 1986 को उनका महज 31 साल की उम्र में निधन हो गया।  

कहा तो ये जाता है कि बेटे प्रतीक बब्बर को जन्म देने के दो सप्ताह बाद उनकी मौत हुई थी। तब उचित देखरेख न होने से स्मिता की मौत हुई। हालांकि, उनका अचानक से मरना अब तक एक रहस्य बना हुआ है। स्मिता की मौत के बाद उनके शव को तीन दिन तक बर्फ में रखना पड़ा था, क्योंकि उनकी बहन अमेरीका में रहती थीं और उन्हें आने में समय लगा था।

comments

.
.
.
.
.