Thursday, Feb 02, 2023
-->
these-are-five-conditions-bombay-high-court-gave-bail-to-rhea-chakraborty-jsrwnt

SSR: इन 5 बड़ी शर्तों पर मिली रिया चक्रवर्ती को जमानत

  • Updated on 10/7/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुशांत सिंह राजपूत (sushant singh rajput) की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती (rhea chakraborty) को लगभग 1 महीने बाद बेल मिल गई है। जमानत मिलने के बावजूद भी रिया की मुश्किलें कम नहीं होंगी। दरअसल, जेल से बाहर आने के बाद भी रिया को कई शर्तें माननी पडेंगी। आइए आपको बताते है कौन सी हैं वो पांच शर्तें। 

- रिया चक्रवर्ती का पासपोर्ट कोर्ट में जमा रहेगा। विदेश यात्रा के लिए रिया को पहले अदालत से इजाजत लेनी पड़ेगी। 

- जब तक यह मामला चलेगा तबतक रिया देश से बाहर नहीं जा सकेंगी।

- रिया को एक लाख रुपए का बॉन्ड भरना पड़ेगा।

- रिया को 10 दिन तक मुंबई पुलिस को रिपोर्ट पड़ेगा और जब भी NCB रिया को बुलाएगी उन्हें जाना पड़ेगा।

- इसमें एक खास शर्त ये है कि रिया को अन्य गवाहों से मुलाकात करने की इजाजत नही है।

रिया चक्रवर्ती की Bail से पहले मुंबई पुलिस ने जारी किए Media के लिए यह सख्त आदेश

एनसीबी का कहना है

एनसीबी का कहना है कि- अभी तक हमें बेल की ऑर्डर कॉपी नहीं मिली है। कॉपी मिलने के बाद हम उसे स्टडी करेंगे।उसके बाद अपनी लिगल टीम से मशवरा करके कोई फैसला लिया जाएगा।

रिया चक्रवर्ती की Bail पर बॉलीवुड सेलेब्स के आ रहे ऐसे Reactions

NCB कर रही है जमानत का विरोध
रिया और शोविक को गिरफ्तार करने वाली जांच एजेंसी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी कि एनसीबी (NCB), इन दोनों की जमानत का पूरी तरह से विरोध कर रही थी। रिया और शोविक कि जमानत याचिका के विरोध में एनसीबी ने कोर्ट में दलील देते हुए कहा था कि अगर रिया और शोविक बाहर आते हैं तो इससे जांच प्रभावित हो सकती है। इसके साथ ही एनसीबी का ये भी कहना था कि रिया ने पूछताछ के दौरान कई नामों के खुलासे किए हैं, ऐसे में अगर रिया जेल से बाहर आती हैं तो वो उन लोगों को सतर्क कर सकती हैं। 

ड्रग केस में रिया चक्रवर्ती को नहीं मिली राहत, 20 अक्टूबर तक बढ़ाई गई न्यायिक हिरासत

भायखला जेल में बंद हैं रिया चक्रवर्ती
रिया चक्रवर्ती 8 सितंबर से मुम्बई की भायखला जेल में बंद हैं। रिया को एनसीबी द्वारा ड्रग केस में न्यायिक हिरासत में लिया गया है। आपको बता दें, रिया चक्रव्रती, सुशांत केस में मुख्य आरोपी हैं।

comments

.
.
.
.
.