Sunday, Jun 13, 2021
-->
jammu-kashmir-pakistan-funeral-indian-army-martyr-haryana-jhajjar-sobhnt

Pak की फायरिंग में हरियाणा का बेटा शहीद, पत्नी बोली-पति की शहादत पर है गर्व

  • Updated on 1/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में पाकिस्तान (pakistan) की गोलीबारी से एक बार फिर से भारतीय सेना (Indian Army) ने अपने एक जावन को खो दिया है। सेना ने जिस जवान को खोया है। वह हरियाणा (Haryana) के झज्जर के कस्बा साल्हाबास से तात्लुक रखते हैं। शहीद हुए भारतीय सैनिक का नान रविन्द्र जाखड़ है। वह जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना की तरफ  से अपनी सेवा कर रहे थे।

लोगों का लगा हूजूम
शहीद जवान की शहादत में झज्जर के साल्हावास क्षेत्र के साथ-साथ नजदीक के कई गांवों के लोगों का हूजूम भी शामिल हुआ था। रविन्द्र का अंतिम संस्कार रविवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया था। इस दौरान लोगों ने शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए बढ़-चढ़ हिस्सा लिया था। 

Afternoon Bulletin: सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें, अभी तक की बड़ी खबरें

जाखड़ का शव पैतृक गांव लाया गया
बीती दिन शाम को शहीद रविन्द्र जाखड़ का शव उनके पैतृक गांव लाया गया है। जहां उसके शव के साथ-साथ बड़ी संख्या में लोग आए थे। लोगों ने अच्छी खासी संख्या में शहीद की अंतिम विदाई में हिस्सा लिया था। शहीद रविन्द्र के दो बेटे हैं। पिता की शहादत के बाद रविन्द्र के बेड़े बेटे ने कहा कि उन्हें अपने पिता की शहादत पर गर्व है। और वह भी भारतीय सेना में अपनी शहादत देना चाहते हैं।

बेटा भा जाना चाहता है सेना में
रविन्द्र के बड़े बेटे ने कहा है कि वह भी आर्मी में जाने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने पिता की मृत्यु से पहले सेना की लिखित परीक्षा को पास कर लिया था। वह उन्होंने हाल में मेडिकल की परीक्षा में भाग लेना था मगर पिता के शहीद होने की खबर सुनने के बाद उन्होंने अपनी परीक्षा को स्थगित करााया है। 

किसान- सरकार के बीच बातचीत से पहले बोले धर्मेन्द्र, किसानों को इंसाफ मिलने की उम्मीद

पति की शहादत पर है गर्व
वहीं दूसरी तरफ शहीद की पत्नी राजवंती ने भी कहा है कि उन्हें उनके पति की शहादत पर गर्व है। वह कहती हैं कि उनके पति एक बहादुर सैनिक थे। वह चाहती है कि उनके पति के बाद उनके दोनों बेटे भी भारतीय सेना में अपनी सेवा दें।  वह कहती हैं कि वह देश सेवा के लिए अपने दोनों बेटों को भी भारतीय सेना में भेजना चाहती हैं।  

Pak में हजारा शिया समुदाय का ‘नरसंहार’ करा रही सेना! 11 हत्याओं के बाद PM Modi से लगाई गुहार

शहीद का हुआ अंतिम संस्कार 
शहीद के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार उनके बेटे ने किया था। शहीद के गांव पहुंचते ही उनका गगनभेदी नारों के साथ सम्मान किया गया था। उसके बाद उन्हें सम्मान देने के लिए मातमी धुन बजाकर हवा में कई  फायरिंग की गई थी। शहीद के अंतिम संस्कार के समय सेना के कई बड़े अधिकारी भी शामिल हुए थे। जिस समय सेना शहीद के पार्थिव शरीर को लेकर आई थी। उस समय  शहीद के गांव के साथ आस-पास के कई गांवों के लोग बड़ी संख्या में उन्हें सम्नान देने के लिए आए थे। 

 

ये भी पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.