Thursday, Jan 23, 2020
bio artificial support device will give new life to liver patients

बायो आर्टिफिशियल सपोर्ट डिवाइस से लिवर के मरीजों को मिलेगी नई जिंदगी

  • Updated on 12/2/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अब वो दिन दूर नहीं जब लिवर खराब होने पर उसे बदलने की जरूरत नहीं होगी। बायो आर्टिफिशियल लिवर सपोर्ट डिवाइस से लिवर को सहारा देगी। इसमें लगा बायो रिएक्टर टॉक्सिन निकालकर स्वस्थ सेल को बढ़ाएगा और लिवर को सपोर्ट करेगा। मरीज परहेज के साथ जीवन जी सकेगा।

health

इस पर भारतीय विज्ञान संस्थान, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान व लिवर एवं पित्त विज्ञान संस्थान समेत कई संस्थानों में शोध चल रहा है। इस पर शोध कर रहे लिवर एवं पित्त विज्ञान संस्थान के निदेशक डॉ. शिव कुमार सरीन ने बताया कि लिवर के बैक्टीरिया बदलने की चिकित्सा की शुरुआत हो गई है।

World AIDS DAY: HIV संक्रमण के दौरान खाएं ये 5 चीजें, इससे बढ़ेगी इम्यूनिटी पावर

आइआइटी में बायोटर्म.2019 में शिरकत करने आए डॉ.सरीन ने शुक्रवार को बताया कि लिवर बदलने की बजाय उसके बुरे बैक्टीरिया निकालकर अच्छे बैक्टीरिया डालने के 200 ऑपरेशन कर चुके हैं। यह बहुत महंगी चिकित्सा नहीं है। एल्कोहल का सेवन करने वाले मरीजों के इलाज के लिए यह चिकित्सा पद्धति सबसे बेहतर है।

मोटापे से परेशान मरीजों को मिलेगी राहत, IGMC में पहली बार होगी बेरियाट्रिक सर्जरी

इसके अलावा प्लाज्मा बदलकर व बोन मेरो के जरिए लिवर विकसित करके भी मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इन सभी चिकित्सा पद्धतियों में लिवर के टॉक्सिन निकालकर उसका इलाज किया जाता है। उन्होंने बताया कि,कृत्रिम लीवर के क्षेत्र में भी शोध कार्य हो रहा है,लेकिन समय लगेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.