canned goat milk is extremely beneficial for the digestive

बकरी का दूध हैं शिशु पाचन तंत्र के लिए बेहद फायदेमंद, जानें विशेषताएं

  • Updated on 7/6/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बकरी के दूध का डिब्बाबंद (Goat Canned Milk) शिशु आहार (Baby's Food) में प्री बायोटिक होते हैं जिसमें संक्रमण से बचाने वाले गुण होते हैं जो कि शिशुओं के पाचन तंत्र के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकते हैं। ‘प्री बायोटिक’ (Pre Biotic) भोजन में पाए जाने वाले ऐसे तत्व हैं जो आंतों में मौजूद फायदेमंद सूक्ष्मजीवियों जैसे बैक्टीरिया (Bacteria) और फंगई (Fungi) को बढऩे में मदद करते हैं।

HIV के संक्रमण से हो सकता है हृदयगति रुकने और दिल का दौरा पड़ने का ज्यादा खतरा

रिसर्च से हुआ खुलासा

एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है। इस अध्ययन (Research) में ओलिगोसैकराइड्स (एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट) पर ध्यान केन्द्रित किया गया। यह एक प्रकार का प्री बायोटिक (Pre Biotic) है जो पेट के लिए फायदेमंद (Benefitial) जीवाणुओं के बनने को बढ़ाता है और नुकसादेह जीवाणु से सुरक्षा करता है।

मोटे-मोटे चश्मों और कॉन्टेक्ट लेंस की मुसीबतों से अब ये नयी तकनीक दिलाएगी छुटकारा

पाए जाते हैं 14 प्रकार के लाभकारी तत्व

ऑस्ट्रेलिया (Australia) के आरएमआईटी विश्वविद्यालय (RMIT University) में किए गए शोध में पाया गया कि बकरी के दूध (Goat Milk) के आहार में 14 प्रकार के प्राकृतिक प्री बायोटिक (Pro Biotic) ओलिगोसैकराइड्स पाए जाते हैं। इनमें से पांच मां के दूध में भी मौजूद होते हैं। ‘ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रीशियन’ में प्रकाशित अध्ययन में सबसे पहले बकरी के दूध के शिशु आहार में ओलिगोसैकेराइड्स की विविधता और मां के दूध से इसकी समानता की बात सामने आई थी।

वजन से लेकर स्किन तक सभी प्रॉब्लम्स से छुटकारा दिलाएगा विटामिन-सी, फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप

स्वस्थ जीवाणुओं को बढ़ाने में कारगर

विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हरशरन गिल कहते हैं,‘‘यह अध्ययन इस बात की ओर इशारा करता है कि बकरी के दूध के शिशु आहार में प्री बायोटिक ओलिगोसैकराइड्स पेट में स्वस्थ जीवाणुओं को बनने में बढ़ावा देने में काफी असरदार है।’’ शोधकर्ताओं को दो प्रकार के ओलिगोसैकराइड्स-फ्यूकोसाइलेटेड और सिएलीलेटेड का पता चला जो बकरी के दूध के आहार में मौजूद होते हैं। इनमें से फ्यूकोसाइलेटेड मां के दूध में भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

comments

.
.
.
.
.