Thursday, Jan 23, 2020
delhi is leader in organ donation uttar pradesh and bihar did not show generosity

अंगदान में दिलवालों की दिल्ली सबसे आगे, उत्तरप्रदेश और बिहार ने नहीं दिखाई दरियादिली

  • Updated on 11/25/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इंसान के काम आखिर इंसान ही आता है। अंगदान (organ donation) वह जरिया है जिसके जरिए एक इंसान दूसरे इंसान को दुनिया से जाने के बाद भी जिंदगी का उपहार दे जाता है। अंगदान के मामले दिलवालों की राजधानी दिल्ली (delhi) ने सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त किया है। वहीं उत्तर प्रदेश (uttar pradesh) और बिहार (bihar) ने अंगदान के मामले में दरियादिली नहीं दिखाई। नतीजतन आंकड़ों में ये दोनों राज्य पीछे रह गए। अंगदान संबंधित सरकारी जागरुकता अभियान का लाभ अब राष्ट्रीय स्तर पर मिलता हुआ दिख रहा है। पिछले तीन वर्षों के दौरान देश के अंगदान से संबंधित ग्राफ में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। हालांकि, अभी भी 28 राज्यों और 9 केंद्र शासित प्रदेशों में से 22 में ही अंगदान की प्रक्रिया शुरू हो पाई है।

HEALTH

आंकड़ों में अंगदान की मौजूदा स्थिति  
-देश में अंग दान के मामले 2016 में 9046 से बढ़कर 2018 में 10,387 हो चुके हैं।
-दिल्ली में 2018 में सर्वाधिक 2066 अंग दान किए गए।
- यह संख्या 2016 में 1947 और 2017 में 1989 थी।
-मृतअंगदान के मामले में जीवित लोगों ने तीन गुना अधिक अंगदान किया।

HEALTH

अंगदान के मामले में राज्यों की स्थिति
प्रथम स्थान -  दिल्ली
द्वीतीय स्थान - तमिलनाडू
तृतीय स्थान - महाराष्ट्र

Organ Donation Day: 3 लोगों को जीवनदान देकर इस शख्स ने पेश की एक अनुठी मिसाल 

आंकड़ों में मृत और जीवित अंगदान
-2016 में मृत शरीर से 2265 अंग दान किए गए।
 -जीवित लोगों द्वारा 6781 अंगदान हुए।
- यह अंतर 2017 में बढ़कर 2110 के मुकाबले 7489 हो गया। 2018 में मृत शरीर से 2254 अंग दान की तुलना में 8133 -लोगों ने जीवित रहते ही अंग दान किया।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.