Wednesday, Apr 14, 2021
-->
health-tips-side-effects-of-papaya-jsrwnt

पपीते के फायदे के साथ-साथ पढ़ें इसके नुकसान, जानें किस समय खाना होता है फायदेमंद

  • Updated on 3/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पपीता (papaya) बहुत फायदेमंद फल है। खासकर पेट के लिए बहुत गुणकारी होता है। आजतक आपने पपीते के गुणों के बारे में सुना और पढ़ा होगा। लेकिन क्या आप पपीते से होने वाले नुकसान के बारे में जानते हैं। आइए हम आपको बताते हैं पपीता खाने से हमे क्या हानि हो सकती है-   

पपीते के नुकसान

- पपीता रक्त शर्करा के लेवल को कम कर सकता है। ऐसी स्थिति मधुमेह के मरीजों के लिए घातक हो सकी है। इसे खाने से पहले डॉक्टर से सलाह आवश्य लें। 

- गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका सेवन डॉक्टर के परामर्श के बाद ही करना चाहिए। पपीते के बीज और जड़ भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

Title

- कुछ लोगों को पपीते से एलर्जी हो सकती है। इसमें सूजन, चक्कर आना, सिरदर्द और खुजली आदि शामिल है। ऐसे लोगों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

- यदि आप रक्त को पतला करने वाली दवाओं का सेवन कर रहे हैं या आपका पेट खराब है, तो भी पपीते का सेवन न करें। विशेषज्ञों के अनुसार, पपीते की बाहरी त्वचा में लेटेक्स होता है, जो पेट खराब होने या दस्त का कारण बन सकता है। इससे पेट में दर्द की भी शिकायत हो सकती है।

- पपीते में मौजूद एंजाइम पपेन से सूजन, चक्कर आना, सिरदर्द, चकत्ते और खुजली जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

Title

- पपेन से अस्थमा, कंजेशन और जोर-जोर से सांस लेने जैसी समस्या हो सकती हैं।

Rice Water के अद्भुत फायदे जानकर आप भी आज से ही इसे फेंकना कर देंगें बंद

पपीते के फायदे

पाचन में फायदेमंद
पपीते का ये फायदा को सब जानते ही हैं कि ये पाचन में बहुत फायदा करता है। पपीते के सेवन से शरीर को कई जरूरी तत्व मिल जाते हैं। इसमें पपेन समेत कई पाचक एंजाइम्स और कई डायट्री फाइबर्स होते हैं। इसमें बीटा कैरोटिन, विटामिन ई और फोलेट आदि पाए जाते हैं, जो कब्ज से बचाते हैं।

वजन न बढ़ने दे
पपीता वजन कम करने में बहुत मदद करता है। पपीते में कोलेस्ट्रॉल और वसा न के बराबर पाया जाता है, जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है। एक मध्यम आकार के पपीते का सेवन फायदेमंद होता है, इसमें 120 कैलोरी, विटामिन सी, फोलेट और पोटैशियम आदि होते हैं। 

इम्यूनिटी करे स्ट्रोंग
पपीते से शरीर को विटामिन सी भी भरपूर मात्रा में मिलता है, जो सफेद कोशिकाओं के निर्माण में सहायक साबित होता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट, प्रोटीन, विटामिन ए और ई हमारे प्रतिरक्षा तंत्र की मजबूती के लिए आवश्यक हैं। इससे कई बीमारियां दूर रहती हैं।

Title

आंखों को भी रखे स्वस्थ
पपीते में आंखों को फायदा देने वाला विटामिन ए भरपूर मात्रा में होता है। इसमें नीली रोशनी से आंखों का बचाव करने वाला कैरोटिनॉइड ल्यूटिन पाया जाता है। ये रेटिना की रक्षा करता है और मोतियाबिंद के खिलाफ भी लड़ता है।

कैंसर से बचाव
पपीते में मौजूद लाइकोपिन, कैरोटिनॉइड, एंटीऑक्सिडेंट, बीटा-क्रिप्टोक्साथीन और बीटा कैरोटिन आदि तत्व कैंसर से बचाव करते हैं।

आपको भी लगता है इंसानों और चीजों को छूने पर करंट, जानिए इसके पीछे की वजह

पपीता खाने का सही समय

पपीते का सेवन सुबह के समय करना चाहिए। लेकिन डिनर के बाद पपीता नहीं खाना चाहिए, क्योंकि फाइबर युक्त होने की वजह से पचाना थोड़ा मुश्किल होता है। इसमें एसिडिक गुण कम होने के कारण सुबह के समय खाने से ये अच्छे से पच जाता है। इसमें पानी की मात्रा और फाइबर भरपूर होता है, जो शरीर की मेटाबोलिक रेट को संतुलित करता है। लेकिन यह ध्यान रखें कि इसका सेवन सीमित मात्रा में करें। इसकी कुछ मात्रा शाम के नाश्ते में भी ले सकते हैं। 

यहां पढ़ें हेल्थ से जुड़ी अन्य खबरें...

आपको भी लगता है इंसानों और चीजों को छूने पर करंट, जानिए इसके पीछे की वजह

Rice Water के अद्भुत फायदे जानकर आप भी आज से ही इसे फेंकना कर देंगें बंद

भूलकर भी खाली पेट न खाएं ये चीजें, सेहत को फायदे की जगह पहुंचाएंगी नुकसान

सर्दियों में गुड़ खाने के इतने सारे फायदे जान हैरान हो जाएंगे आप

रोज की डाइट में इन चीजों को शामिल करके रह सकते हैं एकदम फिट

रोज खाई जाने वालीं इन चीजों के नुकसान के बारे में नहीं जानते होंगे आप

सर्दियों में मेथी के पत्ते बेहद लाभकारी, डायबिटीज और दिल के मरीजों के फायदेमंद

विटामिन D के साथ इन कमियों को भी पूरी करता है मशरूम, फायदें जान हो जाएंगे हैरान

सर्दियों में खांसी-जुकाम से हैं परेशान तो अपनाएं ये रामबाण घरेलू नुस्खे


रोज की डाइट में इन चीजों को शामिल करके रह सकते हैं एकदम फिट

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.