how to deal with panic attack know the tips

काम के दौरान अगर आ जाए Panic Attack, तो इस तरह करें डील

  • Updated on 9/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आजकल की भाग दौड़ भरी जिदंगी में लोग अपने कामों में इतना व्यस्त हो जाते हैं कि उन्हें अपने स्वास्थ्य (Health) की भी चिंता नहीं होती। रोजाना काम करने से लोगों का शारिरीक विकास (Physical development) तो हो जाता है लेकिन मानसिक तनाव (Mental Stress) भी बढ़ जाता है।

अक्सर आपने देखा होगा की लोग अपने काम के दौरान ज्यादा स्ट्रेस ले लेते हैं जिसकी वजह से मानसिक तनाव बढ़ जाता है और कई बार ऐसे तनाव पैनिक अटैक (Panic Attack) जैसी गंभीर बीमारियों का रूप ले लेते है। इसलिए जरूरी है कि कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान रखा जिससे वक्त आने पर पैनिक अटैक जैसी समस्या से लड़ा जा सकें। आज हम अपनी इस खबर के माध्यम से बताएंगे की पैनिक अटैक कैसे आता है और इससे कैसे बचना चाहिए।

कई गुणों से लैस हैं हरी साग सब्जी, इन गंभीर रोगों से लड़ने में करती है मदद

क्या है पैनिक अटैक

पैनिक अटैक बहुत ही साधारण अटैक है ये लोगों में बहुत आम है। जब लोग अपने काम को लेकर ज्यादा दबाव में आ जाते हैं और अधिक तनाव लेने लगते हैं तो इससे पैनिक अटैक का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही इसके कुछ लक्ष्ण भी हैं जिससे ये पता लगाया जा सकता है कि आखिर ये कब और कैसे आते हैं।

क्या है पैनिक अटैक के लक्ष्ण 

घबराहट होना
अत्यधिक भय
धड़कनों का बढ़ जाना
सांस लेने में दिक्कत होना

कैसे करें पैनिक अटैक से डील

World Coconut Day: नारियल का देसी उपचार मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों से लड़ने में करता है मदद

सांसो पर दें ध्यान 

अगर काम के दौरान आपको अचानक से पैनिक अटैक आ जाता है और सांस लेने में ज्यादा दिक्कत होती है तो उसके लिए आपको इससे घबराने की जरूरत नहीं है। ऐसी परिस्थिति में आप एक लंबी और गहरी सांस लें और अपने आपको नार्मल रखें। इससे पैनिक अटैक कुछ ही वक्त में हल्का हो जाएगा।

दिमाग में ना रखें अपने कोई भी विचार

अक्सर यह देखा गया है कि जब लोग ज्यादा सोचने लगते और अपने दिमाग पर जोर डालते हैं तो इससे पैनिक अटैक का खतरा बढ़ जाता है। कई बार ज्यादा सोचना आपके दिमाग पर इसका बुरा असर डाल सकता है इसलिए जरूरी है की ज्यादा सोचने से पहले आप अपने विचारों को दिमाग में ना रख कर उसे किसी नोट या फिर कागज पर उतार लें। इसका आपका दिमाग भी शांत रहेगा और जो आपके विचार है उसे आप आसानी से पढ़ भी पाएंगे।

मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों पर रोकथाम के लिए नगर निगम ने जारी की गाइडलाइंस

घर जानें के बारे में ज्यादा न सोचें

काम खत्म होने से चंद घंटे पहले लोगों के दिमाग अक्सर ये घुमता रहता है कि कैसे काम खत्म हो और घर जाया जाए। कभी-कभी आप ऑफिस से घर के लिए निकलने में कई प्रयास करते हैं लेकिन बाधा उत्पन्न हो जाती है और फिर घर जाने का ख्याल आपके दिमाग में ही डोलता रहता है। इसलिए जरूरी है कि घर जाने के लिए ज्यादा परेशान ना हो और जब तनाव बढ़ जाए तो किसी शांत व खुली जगह में जाएं और ठंडा पानी पीएं या फिर अपनी कोई मनपसंद ड्रिंक ले लें। इससे आपका दिमाग भी शांत रहेगा और कुछ ही घंटों में आप नार्मल हो जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.