Tuesday, Jan 28, 2020
lower-back-pain-remedies

युवाओं को भी सता रही है Back Pain की बीमारी , इस तरह रख सकते हैं अपना ख्याल

  • Updated on 11/27/2019

healthनई दिल्ली/टीम डिजिटल। बैक पेन (backpain) की बीमारी आजकल आम बात हो गई है। ये बीमारी सिर्फ बुजुर्गों में होनेवाली बीमारी नहीं रह गई है। बल्कि 20 25 साल के युवा भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। इससे मांसपेशियों और कमर पर दबाव पड़ता है और दर्द को आसानी से दावत मिल जाती है। इसलिए बैठते वक्त अपने पॉश्चर का ध्यान जरूर रखें।

MOHFW की रिपोर्ट: पूर्वोत्तर भारत में डॉक्टरों की है भारी कमी, जानें अन्य राज्यों का हाल

ब्रेक ना लेना
कई-कई घंटे एक ही सीट पर बैठे रहना और बीच में ब्रेक ना लेना या बहुत कम लेना भी बैकऐक को दावत देना है। एक ही जगह पर बैठे रहने या फिर लेटे रहने की वजह से भी कमर में दर्द हो सकता है। 

सौैंफ है आखों के लिए बेहद फायदेमंद, रोशनी बढ़ाने में करता है मदद

सबकी हदें होती हैं
युवाओं के साथ सबसे बड़ी दिक्कत होती है कि अक्सर वे अपने जोश के चलते ही खुद को नुकसान पहुंचा लेते हैं। अगर भारी सामान उठा लिया है और कमर में अचानक ही झटका आ गया है तो इससे भी कमर में दर्द की समस्या हो सकती है।

आपका बिस्तर
बेहद नर्म बिस्तर और मोटा तकिया युवाओं को आरामदायक लगता है। जबकि अधिक मोटा तकिया लगाने या फिर जिस मैट्रेस पर आप सोते हैं उसकी वजह से भी कमर में दर्द हो सकता है। 

health

आपका लाइफस्टाइल
कमर में दर्द के लिए आपका सिटिंग या स्टैंडिग पोश्चर तो जिम्मेदार है ही, साथ ही आपका लाइफस्टाइल और खान-पान भी जिम्मेदार है। कई लोग हेल्दी खाने-पीने के बजाय जंक फूड को तरजीह देते हैं। 

आदत बना लें
नियमित रूप से एक्सर्साइज न करने से भी कमर में दर्द हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि एक्सर्साइज न करने से शरीर की मांसपेशियां अकड़ जाती हैं और ऐंठन होने लगती है। 

comments

.
.
.
.
.