Friday, May 07, 2021
-->
lung-cancer-risk-increases-on-people-who-smoke

धूम्रपान करने वालों पर फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ता है 30 गुना

  • Updated on 5/29/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मई 31 को विश्व तंबाकू दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन तंबाकू से हो रहे नुकसान के तरफ जागरुकता फैलाई जाती है। दयानंद मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (डीएमसीएच) के  डॉ अतुल मिश्रा, प्रोफेसर और यूनिट प्रमुख, सर्जरी विभाग ने कहा कि आज दुनिया भर में फेफड़ों का कैंसर सबसे अधिक पाए जाने वाला कैंसर है।

इसके अलावा, प्रति वर्ष फेफड़ों के कैंसर के 1.61 मिलियन नए मामले और 1.38 मिलियन मौतें सामने आती हैं। इन आंकड़ों के बाद कैंसर से संबंधित मृत्यु दर का प्रमुख कारण फेफड़ों का कैंसर बनता है। 

मासिक धर्म में देरी का मतलब गर्भवती होना नहीं, ये हो सकते हैं कारण

फेफड़ों का कैंसर होने के बाद कुल पांच साल जीवित रहने की दर विकसित देशों में लगभग 15 प्रतिशत है और विकासशील देशों में 5 प्रतिशत। इसका कारण शुरुआती चरणों में कैंसर का पता न चलना हो सकता है। फेफड़ों के कैंसर के मरीजों और उनकी देखभाल करने वालों के बीच जागरूकता बढ़ाने की सख्त जरूरत है।

धूम्रपान करने वालों में तम्बाकू 80 प्रतिशत फेफड़ों के कैंसर की मौतों का कारण बनता है। जो लोग सिगरेट पीते हैं वे 15 से 30 गुना अधिक फेफड़ों के कैंसर होने की संभावना रखते हैं। हालांकि, धूम्रपान न करने वालों के बीच फेफड़ों के कैंसर का भी बढ़ता हुआ प्रभाव देखा गया है।

दिल्ली में बढ़ा डेंगू का प्रकोप, 19 हजार घरों में पनप रहें है जानलेवा मच्छर

भारत में हर छठे सेकेंड एक व्यक्ति तंबाकू के कारण मिले फेफड़ों के कैंसर से दम तोड़ देता है। तंबाकू से संबंधित बीमारियों के कारण अनुमानित 60 मिलियन लोग मरे जिनमें से लगभग 10 प्रतिशत दूसरों द्वारा किए गए धूम्रपान का शिकार हुए। 
फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती संकेतों को समझना, नियमित जांच से गुजरना और उचित उपचार करना महत्वपूर्ण है। अधिकांश फेफड़ों के कैंसर का इलाज सर्जरी, कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी से किया जा सकता है।

जांच का लक्ष्य फेफड़ों के कैंसर को शुरुआती चरण में पहचानना है क्योंकि तब इसके ठीक होने की अधिक संभावना होती है। अकेले पंजाब में, 10 फेफड़ों के कैंसर के मरीजों में से 9 स्टेज 3 या स्टेज 4 के दौरान एक सर्जन से परामर्श लेते हैं। हालांकि सर्जरी की मदद लेने के लिए मरीजों को स्टेज 1 और 2 में उचित उपचार लेना चाहिए।

फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती संकेत
कैंसर के लक्षण भिन्न होते हैं। जहां यह फैलता है वहां के प्रभावित सेल के प्रकार पर निर्भर करता हैं। साथ ही इसपर की ट्यूमर कितना बड़ा होता है। कुछ प्रकार के कैंसर किसी भी लक्षण को तब तक नहीं दिखाते जब तक कि वो एक अंतिम चरण में न हों। इस प्रकार के कैंसर की रोकथाम के लिए जांच करके शुरूआती लक्षणों को पहचान महत्वपूर्ण है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.