Wednesday, May 31, 2023
-->
national vaccination day 2023 know some myths and facts related to vaccination

National Vaccination Day पर जानें टीकाकरण से जुड़े मिथक और असली तथ्य

  • Updated on 3/15/2023

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वैक्सीनेशन हमें कई तरह की बीमारियों से बचाने का काम तो करता ही है साथ में स्वस्थ रखने में भी मदद करता है। टीकाकरण के बदौलत ही हम कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बचने में कामयाब हो पाते हैं। जबसे हमारा जन्म होता है यह प्रोसेस तभी से शुरू हो जाता है। भविष्य में हमारी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टीकाकरण आरंभ हो जाता है। टीकाकरण की जरूरत और महत्व को दिखाने के लिए ही हर साल 16 मार्च के दिन 'नेशनल वैक्सीनेशन डे' मनाया जाता है। 

कोरोना के बाद बढ़ा वैक्सीनेशन का महत्व
कोविड के बाद से वैक्सीनेशन का महत्व और ज्यादा बढ़ गया है। कई लोग इस बारे में फैक्ट के साथ बातें करते हैं तो कई लोग हवा में तीर चलाने का काम करते हैं। वैक्सीनेशन डे के खास मौके पर हम आपको आम लोगों की धारणा और विश्व स्वास्थ्य संगठन के फैक्ट्स के बारे में बताने जा रहे हैं। 

वैक्सीनेशन के बारे में फैले मिथ और सही फैक्ट
धारणा- आम तौर पर लोगों के दिलों में यह धारणा बन जाती है कि टीकाकरण सुरक्षित नहीं होते हैं?

फैक्ट - वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने इस बारे में बताया है कि किसी भी वैक्सीन को लाइसेंस देने से पहले उसका विशेषज्ञों की निगरानी में पूरा टेस्ट किया जाता है। इसके प्रभाव से लेकर हर चीज की बारीकी से जांच की जाती है। 

धारणा- बच्चे को एक साथ कई टीके लगाना हानिकारक होता है और इससे उनकी इम्यूनिटी भी कमजोर हो जाती है?
फैक्ट- कई साइंटिस्ट ने इस बारे में रिसर्च की हैं जिसके बाद यह परिणाम आया है कि एक साथ एक से ज्यादा टीका लगाने पर बच्चों पर कोई भी दुष्परिणाम नहीं होते हैं।

धारणा- कई वैक्सीन में मर्करी पाई जाती है जिससे स्वास्थ्य पर खतरनाक प्रभाव  पड़ता है?
फैक्ट- बहुत कम टीकों में थियोमर्सल नामक ऑर्गेन का इस्तेमाल किया जाता है। वैक्सीन में इसकी बहुत कम मात्रा का इस्तेमाल किया जाता है। इसके बारे में अभी कोई प्रमाण सामने नहीं आए हैं कि वैक्सीन में प्रयोग होने वाला थियोमर्सल सेहत पर नकारत्मक प्रभाव डालता है। 

धारणा- दुनियाभर में जो कैंसर के मामले बढ़ रहे है उसके लिए कहीं न कहीं टीकाकरण ही जिम्मेदार है?
फैक्ट-  वैक्सीन लगवाने से कैंसर नहीं होता  है। बल्कि इससे कई प्रकार की खतरनाक बीमारियों जैसे सर्वाइकल, एनल, ऑरोफरीन्जियल आदि को कम करने में मदद मिलती है।   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.