Thursday, Jan 27, 2022
-->
suffering-from-insomnia-do-all-this

अनिद्रा से परेशान हैं तो करें ये उपाय, जल्द मिलेगा आराम

  • Updated on 3/17/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अनिद्रा से परेशान हैं तो मेडिशन आपकी मदद कर सकता है। हाल ही में अमेरिका के वेलस्पैन यॉर्क हॉस्पिटल मेंं हार्टफुलनेस मेडिटेशन के इनसोमनिया यानी अनिद्रा पर प्रभावों को लेकर एक शोध किया गया। इस शोध में 28 प्रतिभागियों को रखा गया था। ये सभी क्रोनिक इनसोमनिया से ग्रस्त थे। 8 हफ्तों तक किए गए इस शोध में प्रतिभागियों से हार्टफुलनेस मेडिटेशन करने के लिए कहा गया। इनका प्री और पोस्ट इनसोमनिया इंडेक्स स्कोर मापा गया और वैज्ञानिकों ने पाया की इनसोमनिया इंडेक्स स्कोर आधे तक घट गया। प्रैक्टिस के बाद इनमें से कुछ मरीजों ने फॉर्मालॉजिकल ट्रीटमेंट भी छोड़ दी। वैज्ञानिकों की मानें तो हार्टफुलनेस मेडिटेशन एक साधारण हार्ट-बेस्ड मेडिटेशन है, जो तनाव को कम करके आपको भावनात्मक रूप से बेहतर बनाता है। 

बड़े शहरो में रह रहे लोगों के बीच बढ़ रहा तनाव जो बन रहा Suicide का कारण

राज योग मेडिटेशन टेक्नीक्स खास तौर से मॉडर्न डे की हेक्टिक लाइफस्टाइल को देखते हुए डिजाइन की गई है, जिससे नींद पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़े और रोजाना प्रैक्टिस से जीवन की गुणवत्ता बेहतर हो। 

कुछ तरीके अपनाकर आप अनिद्रा की समस्या को दूर कर सकते हैं 

1. बिस्तर पर जाने के बाद 20 मिनट तक नींद न आए तो बिस्तर से उठ जाएं। किसी दूसरे कमरे में जाएं और कुछ दूसरी गतिविधियां जैसे चाय पीना, पढऩा और हल्की स्ट्रेचिंग करें। वापस बिस्तर पर तभी लौटें जब आपको शांत सा महसूस हो और तनाच महसूस न हो रहा हो।

2. माइंडफुलनेस मेडिटेशन टेक्नीक डेली रुटीन को बनाने में मददगार साबित होती है। इसे अपने डेली रुटीन में शामिल करें। इसके लिए आप ऑनलाइन रिर्सोसेज की मदद ले सकते हैं, जो आपको मेडिटेशन से जुड़ी गाइडेंस देंगी। 

3. अगर आप बिस्तर पर जाकर भी फोन पर लगे रहते हैं या कोई और काम करते रहते हैं तो ऐसे में आपका मस्तिष्क सक्रिय रहता है। इसलिए बिस्तर पर जाने से एक घंटे पहले ही अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर दें। 10 मिनट तक कोई सूदिंग एक्टिविटी करें, जो आपको आराम पहुंचाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.