these-health-tips-will-help-you-to-get-rid-off-from-sneezing-allergy

अगर आपको भी है डस्ट से एलर्जी तो ये चीजें करेंगी आपकी मदद

  • Updated on 7/27/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। छिकना (sneezing) आमतौर पर बुखार का संकेत माना जाता है लेकिन अगर ज्यादा छिकें आने लगे तो इसे एक गंभीर बीमारी (Serious diseases) के रूप में देखा जाता है। आपने कई बार लोगों को छिकतें हुए देखा होगा जिससे आपको लगता है कि ये जुखाम (Cold) के कारण हुआ है लेकिन ज्यादा छिंक आपके सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है, क्योंकि इससे डस्ट एलर्जी (Allergy) होने का खतरा रहता है।

डस्ट एलर्जी (Dust Allergy) के मामले दुनिया में ज्यादा बढ़ने लगे हैं, जिसकी वजह से आए दिन हर कोई इसका शिकार हो रहा है। आपको बता दें कि, डस्ट एलर्जी ज्यादातर धुल मिट्टी, प्रदुषण, धुम्रपान आदि की वजह से होता है। और इससे अस्थमा जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा भी हो सकता है।

मानसून के सीजन में घातक हो जाते हैं डेंगू के मच्छर, ऐसे करें बचाव

इसलिए जरूरी है की डस्ट एलर्जी को समय से पहले रोका जाए और कुछ आसान से उपायों को अपनाया जाए। घरेलू नुस्खों में वो दवा होती है जो आपके किसी भी रोग को जड़ से खत्म कर सकता है। आइए जानते हैं की आखिर कौन-नुस्खें कर सकते हैं आपकी इस समस्या का जढ़ से इलाज।

सेब का सिरका है एक लाभकारी दवा

सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar) कई रोगों के लिए लाभकारी दवा है। ये स्किन (Skin) या शरीर के अन्य रोगों से लड़ने में भी सहायता करता है। सेब के सिरके का इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले 1 चम्मच सेब का सिरका लें इसको एक गिलास पानी में मिलाएं। इसके बाद रोजाना दिन में तीन बार इसका सेवन करें। ऐसा करने से छिंक के दौरान बनने वाला बलगम आसानी से खत्म हुआ जा सकता है।

बिहार : हर साल बाढ़ के बाद आती है ये भयंकर बीमारी, इलाज की नहीं है कोई व्यवस्था

स्टीम का करें इस्तेमाल

छिंक (Sneezing) की समस्या को कम करने के लिए स्टीम (Steam) एक बेहतर इलाज है। भांप लेने से जुखाम (Cold) में राहत मिलती है साथ ही इससे छिंक की समस्या भी कम होती है। इसके इस्तेमाल के लिए एक पैन में पानी को गर्म करें। इसके बाद 10 मिनट तक स्टीम लें। ये आपके नाक और फेफड़ों को राहत दिलाने में मदद करता है।

मानसून के सीजन में अपने बच्चों की सेहत का रखें कुछ इस तरह ख्याल

शहद का करें इस्तेमाल 

आमतौर पर शहद का इस्तेमाल स्किन में ग्लो लाने और पेट के मेटाबॉलिजम (Metabolism) को कम करने के लिए किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि शहद छिंक से राहत दिलाने में भी मदद करता है। इसके इस्तेमाल के लिए 1 चम्मच शहद का सेवन करें। इसके बाद कुल्ला कर लें और कुल्ला करने के बाद पानी ना पीएं। ऐसा करने से इसका असर खत्म हो जाता है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.