Thursday, May 06, 2021
-->
world-tubeculosis-day-know-symptoms-and-protection

क्या है टीबी? जानें इसके लक्ष्ण और बचाव के तरीके

  • Updated on 3/24/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। टी.बी. जिसे हिंदी में क्षय रोग और मेडिकल भाषा में ट्यूबरक्लोसिस कहते हैं एक बैक्टीरिया जनित रोग है। यह एक बैक्टीरिया माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस द्वारा उत्पन्न संक्रमण है। यह बैक्टीरिया शरीर के सभी अंगों में प्रवेश कर जाता है। हालांकि ये ज्यादातर फेफड़ों में ही पाया जाता है। मगर इसके अलावा आंतों, मस्तिष्क, हड्डियों, जोड़ों, गुर्दे, त्वचा तथा हृदय भी टीबी से ग्रसित हो सकते हैं। क्षयरोग को कई नामों से जाना जाता है जैसे टी.बी. तपेदिक, ट्यूबरकुलासिस, राजयक्ष्मा, दण्डाणु इत्यादि नामों से जाना जाता है।

#WorldTBDay: देश में टीबी से होती हैं सबसे ज्यादा मौतें, 2025 तक मिलेगी निजात

टीबी के प्रकार

1. फुफ्सीय टीबी- फुफ्सीय क्षय रोग किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो लगता है लेकिन हर व्यक्ति और फुफ्सीय टी.बी के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग पाएं जाते हैं। इसमें कुछ सामान्य लक्षण जैसे सांस तेज चलना, सिरदर्द होना या नाड़ी तेज चलना इत्यादि समस्याएं होने लगती हैं।

2. पेट का टीबी-  दरअसल पेट के टी.बी के दौरान मरीज को सामान्य रूप से होने वाली पेट की समस्याएं ही होती हैं जैसे बार-बार दस्त लगना, पेट में दर्द होना इत्यादि। जब तक पेट के टी.बी के बारे में पता चलता है तब तक पेट में गांठें पड़ चुकी होती हैं।

3. हड्डी का टीबी-  हड्डी में होने वाले क्षय रोग के कारण हडि्डयों में घाव पड़ जाते हैं जो कि इलाज के बाद भी आराम से ठीक नहीं होते। शरीर में जगह-जगह फोड़े-फुंसियां होना भी हड्डी क्षय रोग का लक्षण हैं। 

टीबी के लक्षण-

1. खांसी (दो सप्ताह या उससे ज्यादा दिन तक)

2. खांसी के दौरान मुंह से खून आना

3. भूख कम लगना और वजन का कम होना

4. ठंड लग कर पसीने के साथ बुखार आना 

5. कई लोगों में शरीर में गांठे भी देखने को मिलती हैं

जांच के तरीके

1. टीबी की जांच करने के कई माध्यम होते हैं, जैसे छाती का एक्स रे, बलगम की जांच, स्किन टेस्ट आदि।

2. आधुनिक तकनीक के माध्यम से आईजीएम हीमोग्लोबिन जांच कर भी टीबी का पता लगाया जा सकता है।

3.  इससे संबंधित जांच सरकार द्वारा निशुल्क करवाई जाती हैं।

लाइफस्टाइल में बदलाव कैंसर के हजारों मामलों को रोक सकता है, पढ़ें ये खास रिपोर्ट

बचाव

1. आप बीसीजी का टीका लगवाकर टीबी से बच सकते हैं।

2. अगर आपको पता है कि किसी व्यक्ति को टीबी है तो जितना हो सके उससे दूरी बना कर रखें। क्योंकि ये एक तरह का संक्रमित रोग है।

3. टीबी के मरीज को मास्क पहनकर रखना चाहिए। ताकि सामने वाले का आपके छींकने या फिर खांसने से रोग न फैलें। 

 4. मरीज को जगह जगह नहीं बल्कि किसी एक पॉलिथीन में थूकना चाहिए।

5. मरीज को पब्लिक चीजों का कम से कम प्रयोग करना चाहिए। ताकि कोई स्वस्थ व्यक्ति इसकी चपेट में न आए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.