Thursday, Feb 09, 2023
-->

एडवांस लोन देने पर KCC बैंक पालमपुर का मैनेजर सस्पेंड

  • Updated on 3/29/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/विपिन।  कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक समिति (के.सी.सी.) की पालमपुर ब्रांच के मैनेजर को सस्पेंड कर दिया गया है। ब्रांच मैनेजर पर यह गाज लोन की औपचारिकताएं पूरी किए बिना ही एडवांस में लोन देने के चलते गिरी है। के.सी.सी. बैंक मुख्यालय की जांच में भी यह साफ हो गया है और साथ ही यह भी सामने आया है कि इस मामले में ऋण लेने वाले ठेकेदार के दस्तावेज भी अधूरे पाए गए।

धूमल परिवार के संबंध पंजाब ड्रग माफिया से: विक्रमादित्य  

अब मामले में जारी हुए ऋण की रिकवरी पर बैंक मुख्यालय का ध्यान है। हालांकि मुख्यालय की जांच अब भी जारी है। जानकारी के अनुसार कांगड़ा को-आप्रेटिव बैंक प्रबंधन ने एडवांस में लोन देने के मामले में कार्रवाई की। इस कार्रवाई के चलते पालमपुर ब्रांच के मैनेजर को सस्पैंड कर दिया गया। 

इसके अलावा मैनेजर द्वारा दिए गए लोन को रिकवर करने के लिए भी बैंक प्रबंधन ने प्रक्रिया शुरू कर दी है। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले कांगड़ा को-आप्रेटिव बैंक की पालमपुर स्थित ब्रांच में करोड़ों का लोन लेने के लिए एक ठेकेदार ने आवेदन किया। इस दौरान अभी तक लोन कमेटी द्वारा लोन की सिफारिशों को पूरा भी नहीं किया गया था लेकिन इससे पहले ही बैंक मैनेजर ने आवेदनकत्र्ता के लोन का एक-चौथाई हिस्सा उसे एडवांस में दे दिया।

विवादों के घेरे में आया हिमाचल का मियाड़ पावर प्रोजेक्ट

बाद में लोन की फाइल जब मुख्य कार्यालय पहुंची तो इस बात का खुलासा हुआ कि आवेदनकर्ता द्वारा अभी तक लोन कमेटी द्वारा सुझाई गई सिफारिशों को पूरा नहीं किया गया है, जिसके चलते संबंधित ब्रांच मैनेजर को सस्पैंड कर दिया गया है।

शाखा प्रबंधक के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे सस्पैंड कर दिया गया है। मामले की जांच में साफ पाया गया है कि प्रबंधक ने बैंक के नियमों को दरकिनार किया है। बैंक प्रबंधन द्वारा इस मामले में न तो कोई मंजूरी दी गई है और न ही संबंधित ठेकेदार के दस्तावेज पूरे हैं। अभी मामले में जांच जारी है और जारी ऋण की रिकवरी की जाएगी। 
-राखिल काहलों, एम.डी., के.सी.सी. बैंक
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.