Tuesday, Dec 10, 2019
#chandrayaan2 lifts off from sriharikota centre #isro

#Chandrayaan2 की लॉन्चिंग भारत की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआत: ISRO

  • Updated on 7/22/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत ने चांद पर अपने मिशन मून के सपने को अंजाम दे दिया है। ISRO ने इतिहास रचते हुए चंद्रयान-2 लॉन्च कर दिया। लाइव अपडेट्स :

  • चंद्रयान-2 की सफल लॉन्चिंग से हमने अपने तिरंगे को सम्मान दिया हैः के सिवन
  • चंद्रयान 2 का सफल प्रक्षेपण, भारत की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआतः ISRO 
  • चंद्रयान- 2 के सफल प्रक्षेपण पर नितिन गडकरी ने इसरो को दी बधाई
  • चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दी बधाई
  • 48वें दिन चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा चंद्रयान-2
  • GSLV-MK3 से चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग
  • ISRO ने रचा इतिहास! श्री हरिकोटा से लॉन्च हुआ चंद्रयान-2 
  • क्रायोजेनिक चरण में लिक्विड हाइड्रोजन भरी गई
  • GSLV-MK3-M1 के क्रायोजेनिक स्टेज में भरी जा रही लिक्विड हाइड्रोजन
  • इस ऐतिहासिक पल को देखने के लिए सतीश भवन स्पेस सेंटर में लोगों का जमावड़ा।

 इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) ने इसकी जानकारी दी है। इसरो ने कहा कि चंद्रमा पर भेजे जाने वाले भारत के दूसरे यान को आज दोपहर 2.43 बजे से प्रक्षेपित किया जाएगा। आपको बता दें कि पहले चंद्रयान-2 को 15 जुलाई को लॉन्च किया जाना था। पर तकनीकी कारणों के चलते ये प्रक्षेपण 22 तक के लिए टाल दिया गया था। चंद्रयान में लिक्विड कोर स्टेज पर ईंधन भरने का काम पूरा हो गया है।

 

ममता बनर्जी ने EVM के स्थान पर मतपत्र वापस लाने की मांग की

Image result for chandrayaan 2

15 जुलाई को तकनीकी खराबी के कारण टल गया थी लॉन्चिंग

आपको बता दें कि 15 जुलाई को चंद्रयान-2 के लॉन्चिंग से एक घंटे पहले इसमें तकनीकी खराबी का पता चलने के बाद इसे रोक दिया गया था। जिसे आज दोपहर 2.43 बजे इसे लॉन्च करने का काउंटडाउन आज शुरू हो जाएगा। इसरो ने बताया कि जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल मार्क-3 (जीएसएलवी मार्क-3) में आई तकनीकी खराबी को ठीक कर लिया गया है।

पाकिस्तानी PM का अमेरिका ने किया बुरा हाल, कुमार भी बोले खैरात में इज्जत नहीं मिलती

भारत का दूसरा सबसे अहम चंद्रयान-2 मिशन

चंद्रयान-2 भारत का दूसरा सबसे अहम चंद्रयान-2 मिशन है। इसे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से भारी-भरकम रॉकेट जियोसिन्क्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल-मार्क 3 (जीएसएलवी एमके 3) से लॉन्च किया जाएगा। बता दें कि GSLV को 'बाहुबली' के नाम से भी पुकारा जाता है। ये रॉकेट 44 मीटर लंबा और 640 टन वजनी है। इसमें 3.8 टन का चंद्रयान-2 रखा गया है।

Image result for chandrayaan 2

करीब 3.844 किलोमीटर है धरती से चांद की दूरी

आपको बता दें कि धरती से चांद की दूरी करीब 3.844 किलोमीटर है। उड़ान के कुछ ही मिनटों बाद 375 करोड़ रुपये का GSLV-मार्क-3 रॉकेट 603 करोड़ रुपये के चंद्रयान-2 को धरती की कक्षा में स्थापित करेगा। चंद्रयान-2 में लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान चांद तक जाएंगे। लैंडर विक्रम सितंबर या अक्टूबर में चांद पर पहुंचेगा और इसके बाद वहां प्रज्ञान अपना काम शुरू कर देगा।

प्रियंका गांधी के पीड़ित परिवार से मिलने के बाद कांग्रेस ने किया मुआवजे का ऐलान         

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.