Tuesday, Feb 18, 2020
10-lakh-new-flat-to-be-built-in-delhi-work-on-sub-city-project-will-start-soon

दिल्ली सब-सिटी परियोजना कम करेगी आबादी का बोझ, बनेंगे 10 लाख नए फ्लैट

  • Updated on 10/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लैंड पूलिंग पॉलिसी पर भले ही मुहर लग गई है, लेकिन सब-सिटी योजना अब भी केंद्रीय आवास एवं शहरी मामला मंत्रालय की मंजूरी के इंतजार में है। बताया जाता है कि इस योजना पर जल्द ही मुहर लगने के साथ दिल्ली में तीन नई सब-सिटी बनाने की कवायद शुरू होगी और करीब दस लाख से अधिक मकान भी बनकर तैयार होंगे।

मजेदार बात यह है कि यह सभी मकान लैंड पूलिंग पॉलिसी में तैयार होने वाले लगभग 22 लाख मकानों के अलावा रहेंगे। फिलहाल डीडीए ने इस योजना को परवान चढ़ाने के लिए रोहिणी, द्वारका एक्सटेंशन व नरेला में भूमि भी चिन्हित कर ली है।

Oral Health पर दिल्ली सरकार का खास ध्यान, अब खुलेंगे 100 डेंटल क्लीनिक

डीडीए के अनुसार मिश्रित भू-उपयोग वाली इस योजना में कुछ स्थान पर भूमि उपयोग भी परिवर्तित किया गया है ताकि योजना को अमली जामा पहनाने में किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े। बताया जाता है कि डीडीए ने इसके लिए कई विधियों पर विचार भी किया है। फिलहाल अंतिम रूप देने से पूर्व मंत्रालय की मंजूरी का इंतजार है। 

लैंड पूलिंग पॉलिसी से अलग होंगे मकान
डीडीए के अधिकारी के अनुसार सब-सिटी योजना में तैयार होने वाले मकान लैंड पूलिंग पॉलिसी से अलग होंगे। इसमें तीन इलाकों को चिन्हित किया है। जहां सब-सिटी विकसित की जानी है। इसमें द्वारका को विस्तार देते हुए द्वारका एक्सटेंशन, नरेला व रोहिणी शामिल रहेगी। 

नरेला में करीब 218 हेक्टेयर भूमि को मिश्रित भू-उपयोग के लिए परिवर्तित भी किया है। नरेला के अलावा रोहिणी में भी इसी प्रकार सब-सिटी को बसाने की योजना पर काम किया जा रहा है। माना जा रहा है कि तीनों सब-सिटी के जरिये आने वाले दिनों में करीब 10 लाख से अधिक लोगों को रहने के लिए आवास मिल सकेगा।

इस कार्य को अंजाम देने के लिए प्राइवेट डेवलपर अथवा पीपीपी(पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) मोड पर कार्य कराने पर भी विचार हो रहा है। इसके अलावा बीओटी(बिल्ट ऑपरेट एंड ट्रांसफर)सहित कई अन्य विधियों को भी देखा जा सकता है। 

जेसिका लाल, प्रियदर्शिनी मट्टू और नैना साहनी के हत्यारों को नहीं मिलेगी रिहाई

 सब-सिटी में कहां और कितने फ्लैट संभावित

  • द्वारका में एक्सटेंशन के रूप में विकसित होने वाली सब-सिटी में 154 हेक्टेयर भूमि का उपयोग किया जाना है। यहां तकरीबन 2 लाख 66 हजार फ्लैट बनाए जा सकते हैं।
  • नरेला में टीओडी विधि के तहत सब-सिटी को विकसित किया जाएगा। यहां करीब 218 हेक्टेयर भूमि को मिश्रित भू-उपयोग में परिवर्तित किया जा रहा है। माना जा रहा है कि इससे आने वाले दिनों में यहां लगभग 3 लाख 76 हजार 600 फ्लैट तैयार हो सकेंगे।
  • रोहिणी में कुछ नए इलाकों में जमीन को चिन्हित किया है। यहां सब-सिटी को विकसित किया जाएगा। यह पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे से सटी हुई जमीन होगी और यहां भी टीओडी के तहत निर्माण की योजना है। इसके लिए करीब 259 हेक्टेयर भूमि का उपयोग किया जाएगा। इससे लगभग 4 लाख 48 हजार फ्लैट तैयार किए जाने की संभावना है।
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.