Tuesday, Jun 22, 2021
-->
100-days-of-corona-in-india-compared-to-other-countries-prsgnt

भारत में कोरोना वायरस के 100 दिन हुए पूरे, जानिए बाकी देशों की तुलना में कहां खड़ा है भारत

  • Updated on 5/9/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में कोरोना वायरस के 100 दिन पूरे हो चुके हैं और अब तक भारत में संक्रमित मामले 60 हजार का आंकड़ा पार कर चुके हैं। भारत में कोरोना का पहला मामला 30 जनवरी को केरल में तब सामने आया जब वहां चीन के वुहान से एक मेडिकल छात्र लौटा। उसने लौटते ही बुखार और गले में सूजन की शिकायत की थी, जिसके बाद इसका टेस्ट लिया गया, जो कोरोना पॉजिटिव आया था।

इस केस के बाद अगले 30 दिनों तक सभी कुछ सामान्य रहा, एक भी मामला नहीं देखा गया लेकिन इसके बाद धीरे-धीरे मामले सामने आने लगे। शुरूआती 50 दिनों में भारत में 200 केस थे लेकिन फिर अप्रैल आते ही संक्रमण के मामलों ने रफ्तार पकड़ ली। इसके बाद मई में भारत में हर दिन 2 हजार से ज्यादा केस रिपोर्ट किए जा रहे हैं।

कोरोना का सबसे खतरनाक सच! आंखों के जरिए तेजी से शरीर में फैल रहा है संक्रमण

अमेरिका और ब्रिटेन
भारत के कोरोना वायरस के 100 दिनों की अमेरिका और ब्रिटेन से तुलना करें तो यह संख्या काफी धीमी दिखती है। अमेरिका में 21 जनवरी को पहला केस मिला था और 100 दिन बाद अमेरिका में 10 लाख से भी ज्यादा संक्रमित मामले दर्ज किए जा चुके हैं।

वहीँ, ब्रिटेन में पहला केस 31 जनवरी में आया, फरवरी में यहां 23 केस थे जो मार्च एंड तक 25 हजार हो गये और अब 9 मई तक यहां 2 लाख से भी ज्यादा कोरोना मामले दर्ज किए जा चुके हैं।

दक्षिण कोरिया ने 3टी मॉडल से जीती कोरोना की जंग, क्या भारत भी अपना सकता है 3टी ?

भारत की हालात खराब है
भारत की कंडीशन मई में ज्यादा खराब हो गई है। मई में यहां कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। ये तेजी अमेरिका और ब्रिटेन से भी ज्यादा है। इस दौरान भारत को टेस्टिंग बढ़ानी होगी। राज्यों के हिसाब से, जिले, इलाके और क्षेत्र को देखते हुए तेजी से टेस्टिंग करनी होगी। लेकिन भारत इसमें अभी सक्षम नही हुआ है। भारत के पास आज भी पर्याप्त साधन उपलब्ध नहीं हैं।

मंत्रालय ने जारी की नई डिस्चार्ज नीति, क्या आगे और तेजी से बढ़ने वाले हैं कोरोना के मरीज?

महाराष्ट्र और गुजरात में हो अधिक टेस्टिंग
भारत में सबसे ज्यादा मामले दो राज्यों से सामने आयें हैं जिनमें महाराष्ट्र और गुजरात प्रमुख हैं। दोनों ही राज्यों में मौतें तेजी दे हो रही हैं और उसकी दोगुनी तेजी से संक्रमित मामले बढ़ रहे हैं। ऐसे हालातों में भारत सरकार को प्रभावित राज्यों की ज्यादा टेस्टिंग करनी होगी।

इसके साथ ही तेलंगाना, यूपी, मध्यप्रदेश और घनी आबादी वाले राज्यों की ज्यादा टेस्टिंग करनी होगी। अगर भारत को कोरोना पर विजय पानी है तो राज्यों में बड़े लेवल पर टेस्टिंग शुरू करनी होगी। सिर्फ लॉकडाउन बढ़ा कर लोगों को घर से निकलने से मना किया जा सकता है लेकिन इससे संक्रमण नहीं रुक रहा।

सावधान! सैनिटाइजर का ज्यादा इस्तेमाल आपकी स्किन को बना सकता है बीमार

लोग लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं कर रहे। साथ ही सरकार भी जागरूकता से जुड़े काम नहीं कर पा रही। सरकार को राज्य सरकारों को अपने स्तर पर कोरोना पर नियंत्रण करने और टेस्टिंग करने के आदेश होंगे जो कोरोना कंट्रोल करने का सही विकल्प हो सकता है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.