11 mlas arrive to meet karnataka assembly speaker

JDS नेता ने कहा- कर्नाटक सरकार लोगों की उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी

  • Updated on 7/6/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल।  कर्नाटक (karnataka) का नाटक पिछले एक साल से जारी है। यह नाटक मानों थम ही नहीं रहा है।  जिसके कारण  राज्य में हर पल जेडीएस-कांग्रेस (JDS-Congress) के गठबंधन पर संकट के बादल मंडराए रहते हैं। 

ऐसे में अब  इस गठबंधन सरकार के 11 विधायक पार्टी से इस्तीफा देने के लिए स्पीकर ऑफिस पहुंच चुके हैं। इन 11 विधायक में से 8 विधायक कांग्रेस और 3 विधायक जेडीएस के हैं। इसी बीच ऐसी जानकारी मिली है कि बागी विधायकों ने शर्त रखी है कि यदि सिद्धारमैया को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया जाए तो वे इस्तीफा वापस ले लेंगे। इसी बीच jds के विद्रोही विधायकों के नेता ने कहा है कि सरकार लोगों की अपेक्षाओं पर खड़ी नहीं उतरी।

राहुल गांधी की जगह इनको मिल सकती है कांग्रेस की कमान, पढ़ें विशेष खबर

 इस तरह से अचानक 11 विधायकों के इस्तीफे से कुमार स्वामी की सरकार पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। वहीं अगर सूत्रों की मानें तो इस्तीफा देने वाले विधायकों की संख्या में इजाफा देखने को भी मिल सकता है। 

सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी से पूर्व मुख्यमंत्री ने केवल यह कहा था कि उन्हें लगता है कि कर्नाटक में गठबंधन सरकार ने जेडीएस और उसके सुप्रीमो एचडी देवगौड़ा (HD DeveGowda) और मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी (CMKumarswamy) को कांग्रेस से ज्यादा फायदा पहुंचाया है। यदि कांग्रेस राज्य में अकेले चुनाव लड़ती तो वे लोकसभा की 5-6 सीटें जीत सकती थी। पार्टी सूत्रों का दावा है कि जडीएस के साथ गठबंधन के कारण कांग्रेस से जुड़े कई परंपरागत वोट भाजपा (BJP) को चले गए थे। यह भी आरोप है कि जडीएस के कई स्थानीय पार्टी कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए काम नहीं किया। वहीं, अब सिद्धारमैया के करीबियों का कहना है कि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन बना रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.