Wednesday, Feb 19, 2020
16-thousand-kilometer-long-human-chain-formed-in-bihar-for-water-life-greenery

जल-जीवन-हरियाली के लिए बिहार में बनाई साढ़े 16 हजार किलोमीटर लंबी मानव शृंखला

  • Updated on 1/20/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जल-जीवन-हरियाली और शराबबंदी के पक्ष में तथा दहेज प्रथा एवं बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ एकजुट हुए लोगों ने रविवार को बिहार (Bihar) में करीब साढ़े 16 हजार किलोमीटर लंबी कतारबद्ध ‘मानव शृंखला’ का एक बार फिर नया रिकॉर्ड बनाकर इतिहास रच दिया। यह ‘मानव शृंखला’ दुनिया की अब तक की सबसे लंबी ‘मानव शृंखला’ मानी जा रही है।

CAA: केरल में मामला हाईकोर्ट पहुंचने के बाद केंद्र और राज्य में बढ़ी तल्खी

मानव श्रृंखला का भव्य नजारा दिखा
राजधानी पटना समेत सभी 38 जिले में करीब सवा 4 करोड़ लोगों ने दिन के साढ़े 11 बजे से 12 बजे तक करीब साढ़े 16 हजार किलोमीटर की लंबाई में हाथ से हाथ मिलाकर ‘मानव शृंखला’ बनाई। मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) जिले के आथर गांव के लोगों ने ‘मानव शृंखला’ अटूट बनाए रखने के लिए गंडक नदी पर नावों की कतार लगा दी। वहां नदी की चौड़ाई 200 फुट है। राज्य में पहाड़ तक पर हर जगह ‘मानव शृंखला’ का नजारा दिखा। पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान से शुरू होने वाली ‘मानव शृंखला’ में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (sushil Kumar modi) सहित सरकार के कई मंत्री और अधिकारी शामिल हुए। 

शाह का कार्यकाल खत्म, भाजपा को आज मिल सकता है नया अध्यक्ष

दो लोगों की हुई मौत
मानव शृंखला में हिस्सा लेने के दौरान एक सरकारी स्कूल शिक्षक एवं एक महिला की मौत हो गई। मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि मरने वालों में दरभंगा जिले के 55 वर्षीय सरकारी स्कूल के एक शिक्षक तथा समस्तीपुर जिले की एक महिला शामिल है। महिला की शिनाख्त अभी नहीं हो पाई है। मुख्य सचिव ने बताया कि दोनों की मौत दिल का दौरा पडऩे से हुई है। कुमार ने बताया कि मरने वाले दोनों के परिजनों को अनुग्रह राशि के तौर पर 4-4 लाख रुपये दिए जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.