Monday, Aug 08, 2022
-->
16000 Indians nri stranded abroad will come India in 7 stages know who come from where rkdsnt

विदेशों में फंसे 16,000 इंडियन 7 चरणों में लौटेंगे भारत, जानें कौन कहां से आएगा

  • Updated on 5/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना संक्रमण के दौरान विदेशों में फंसे हजारों भारतीयों को लाने के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने एक सप्ताह की खास योजना बनाई है। दुनिया के विभिन्न देशों में फंसे भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए बाकायदा विमानों का इंतजाम किया गया है। इन भारतीयों को 7 चरणों में लाया जाएगा। देश के विभिन्न राज्यों में इन भारतीय यात्रियों को उतारा जाएगा। 

कोरोना संकट: विदेशों में फंसे हजारों भारतीयों को विमान से लेकर आएगी मोदी सरकार

 

मुनव्वर राणा का CDS रावत पर तंज- कोरोना वायरस पुलवामा नहीं है, ये तो दवाओं से ही ख़त्म होगा

विदेश मंत्रालय के मुताबिक 7 दिनों में करीब 16 हजार नागरिकों को विशेष विमानों से भारत आएंगे। शर्त है कि उन्हीं लोगों को वापस लाया जाएगा जो कोरोना स्क्रीनिंग में संक्रमित नहीं पाए जाएंगे। साथ ही भारत पहुंचने पर एयरपोर्ट पर सभी की जांच की जाएगी। जरूत पड़ने पर उन्हें कवारन्टीन भी किया जा सकता है। 

CRPF कर्मियों ने भी PM CARES Fund में दान की अपनी सैलरी, शाह को सौंपा चेक

 

7 चरण की इस योजना में पहले दिन यूएई, साउदी अरब, कतर, ब्रिटेन, सिंगापुर , मलेशिया, यूएसए, फिलीपिंस, बांग्लादेश से विमान भारतीयों को लेकर आएंगे। इस दौरान 2300 लोगों को भारत लाया जाएगा।

आरोग्य सेतु ऐप को लेकर राहुल गांधी के बाद खुफिया एजेंसी ने भी जताई चिंता

 

दूसरे दिन 2050 लोगों को स्वदेश लाया जाएगा। बहरीन से 200 लोग, यूएई से 400, ब्रिटेन से 250, सिंगापुर, मलेशिया से 250, यूएसए से 300, बांग्लादेश से 200, कुवैत से 200 लोग लाए जाएंगे।

बेबस मजदूरों को लेकर अखिलेश यादव बोले- गरीब विरोधी BJP का अंत शुरु

 

तीसरे दिने भी 2050 लोगों को लाया जाएगा। ओमान से 250, कुवैत से 200, यूएई से 400, साउदी अरब से 200, ब्रिटेन से 250, मलेशिया से 250, यूएसए से 300, फिलीपिंस से250 , बांग्लादेश से 200 लोगों को लाया जाएगा। 

सोनिया, राहुल के बाद मजदूरों को लेकर अब प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार को घेरा

 

इसी तरह चौथे दिन 1850 लोगों की विमान से देश लाया जाएगा। पांचवे दिन 2200 लोगों की सुध ली जाएगी। छठे दिन 2500 और सातवें दिन 1850 लोगों को स्वदेश लाया जाएगा।

अभी यह साफ नहीं है कि जितने लोग स्वदेश लाए जा रहे हैं, वे फ्लाइट्स का किराया देकर आएंगे या इनका भार भारत सरकार खुद ही वहन करेगी। बता दें कि देश में कोरोना लॉकडाउन में फंसे हजारों मजदूरों के रेल भाड़े को लेकर सियासत चरम पर पहुंची हुई है।

comments

.
.
.
.
.