Sunday, Jan 23, 2022
-->
2-5-lakh-visitors-to-three-day-delhi-book-fair

तीन दिवसीय दिल्ली पुस्तक मेले से जुडे ढाई लाख दर्शक

  • Updated on 9/5/2021

नई दिल्ली/अनामिका सिंह। तीन दिनों तक चलने वाला दिल्ली पुस्तक मेला आभासी पटल पर अपनी जबरदस्त उपस्थिति दर्ज करवाने में कामयाब साबित हुआ। मात्र तीन दिनों में ही वर्चुअल प्लेटफाॅर्म पर करीब ढाई लाख से अधिक लोग जुडे। जबकि 60 हजार शीर्षक व 30 वेबीनारों का आयोजन किया गया। मालूम हो कि इस मेले का आयोजन हर साल दी फेडरेशन आॅफ इंडियन पब्लिशर्स (एफआईपी) द्वारा करवाया जाता है। कोविड के चलते ये लगातर दूसरा वर्चुअल मेला है। इस बार मेले की थीम भी काफी रोचक रही ‘सस्टेनेबिलिटी और मेंटल हेल्थ’ जिसे पाठकों ने काफी सराहा।

प्रदर्शनी के माध्यम से भारत छोडो आंदोलन की 79वीं वर्षगांठ

आगामी वर्ष मेला होगा 5 से 11 सितंबर 2022 
पुस्तक मेले में कई पुस्तकों का विमोचन किया गया साथ ही साहित्यिक प्रतियोगिताएं और अद्भूत विचार सत्र ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। यह एक बेहद कामयाब और एक बेहतरीन अनुभव के साथ आगंतुकों को हमेशा के लिए यादें दे गया। 360 डिग्री इमर्सिव वर्चुअल अनुभव में लॉन्च, प्रतियोगिता, सेल्फी बूथ और कई मनोरंजन और जुड़ाव तत्वों से भरा, यह एक न भूले जाने वाला दिन था। अब अगामी वर्ष होने वाले दिल्ली पुस्तक मेले के तीसरे संस्करण की तारीखों की घोषणा 5 से 11 सितंबर 2022 तक की गई है।

मिड डे मील किट बांटना शिक्षकों को पडा भारी, विभाग ने थमाया नोटिस

जमकर खरीदी युवाओं ने किताबें
युवाओं ने अपने पसंदीदा लेखकों व प्रकाशकों की यहां जमकर किताबें ही नहीं खरीदीं बल्कि उनसे बातचीत भी की। उसमें भी कपिल गुप्ता की किताब ‘इंडिया विजन: न्यू ऐज इक्वेलिटी’ को पाठकों ने काफी पसंद किया। पुस्तक मेले में सलमान खुर्शीद, आनंद शीला, सैम पित्रोदा, निधि राजदान, जनरल जीडी बख्शी, राजदीप सरदेसाई, आनंद नीलकनातन, शिवकुमार, विनीत मल्होत्रा, अमन नाथ जैसी राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र की नामी-गिरामी हस्तियों ने प्रगति विचार कार्यक्रम में अपने विचार रखे।

सर्वर ना चलने से राशनकार्डधारी हुए परेशान, कोटाधारकों पर उतारा गुस्सा

लाइव वीडियो काॅल व व्हाट्सएप मैसेंजर से जूडे दर्शक
मेले में प्रगतिई द्वारा 360 डिग्री सक्षम सेटअप था जो एडवांस टेक्नोलाॅजी और इमर्सिव वर्चुअल के साथ बेहतरीन अनुभव प्रदान करने के साथ ही पुस्तकों की बिक्री की सुविधा के लिए बेहतर बाजार सुसज्जित करता था और लाइव वीडियो काॅल व व्हाट्सएप मैसेंजर के एकीकरण से दर्शक इससे जुड पाए।

राशन दुकान जाने में सक्षम नहीं हैं तो भरें फॉर्म, मदद करेगा विभाग


आखिरी दिन रहा शिक्षक दिवस के नाम
पुस्तक मेले का आखिरी दिन पूर्ण रूप से शिक्षक दिवस को समर्पित रहा। कई कार्टून चैनलों के साथ मिलकर अपने शिक्षकों का आभार जताने के लिए प्रतियोगिताओं का आयोजन कर बच्चों को भी मेले से जोडने का प्रयास किया गया। वहीं युवाओं को भरपूर मौका मिला।
 

comments

.
.
.
.
.