जहरीली शराब से रुड़की में अब तक 28 की मौत, त्रिवेन्द्र ने दो-दो लाख देने की घोषणा की

  • Updated on 2/9/2019

रुड़की/देहरादून/ब्यूरो। भगवानपुर तहसील के गांवों में जहरीली शराब पीने से अब तक 90 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में 28 लोग रुड़की के हैं, बाकी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जनपद के हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये तथा गम्भीर रूप से घायल व्यक्तियों को 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। सीएम ने प्रभावित व्यक्तियों को समुचित चिकित्सा व्यवस्था उपलब्ध कराने हेतु अधिकारियों को घटना की जानकारी मिलते ही दे दी थी।

सीएम ने कहा कि जहरीली शराब घटना के संबंध में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात हुई है। इस पर एक ज्वाइंट कमेटी बनाने का निर्णय लिया गया है। यह कमेटी अवैध शराब के निर्माण के अड्डों और इसकी तस्करी के नेटवर्क का पता लगाएगी। सीएम ने बताया कि ऐसी घटनाएं भविष्य में न हो इसके लिए अधिकारियों को अलर्ट किया गया है।

पीड़ित परिवार से एक व्यक्ति को मिले सरकारी नौकरी: हरीश रावत

उधर, रुड़की में गांव-गांव धधक रहीं देशी शराब की भट्टियों ने अपना रंग दिखाया है। जहरीली शराब कांड में मौतों का सिलसिला लगातार जारी है। कई की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। पोस्टमार्टम के बाद शव जैसे ही गांव पहुंच रहे हैं घरों में कोहराम मच रहा है। बिलखते परिवारों का दर्द देखा नहीं जा रहा है। मौत के इस आंकडे़ के बढ़ने के अभी भी आसार बने हुए हैं वहीं पीड़ितों के उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती होने की संख्या अभी भी बढ़ रही है।

झबरेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम बाल्लुपुर समेत आसपास के ग्रामों में मृतकों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जिसमें बिंडू गांव में सबसे अधिक मौतें हुई हैं देर रात मरने वालों में  कुलबीर(40 वर्ष) पुत्र सुखपाल  ,ऋषि पाल(50 वर्ष) पुत्र बारू ,बिट्टू (40 वर्ष)पुत्र धर्मपाल, पाल (55 वर्ष)पुत्र मामराज, भोल्लर (25 वर्ष)पुत्र विनोद, शिव कुमार(55 वर्ष) पुत्र सतपाल , मोनू (30 वर्ष)पुत्र शिव कुमार बिंडू निवासी हैं जबकि प्रमोद (45 वर्ष), उमेश (22 वर्ष) व विनोद (35 वर्ष) सुल्तानपुर  साबतवाली के निवासी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.