#RepublicDay2019: शरीर पर 500 से भी ज्यादा Tattoo बनवाकर ये शख्स बना शहीद स्मारक

  • Updated on 1/26/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में आज गणतंत्र दिवस की धूम है। किसी भी देशवासी के लिए उसके अपनों के बाद उसका देश ही सबसे प्यारा होता है, और हो भी क्यों ने इस मुल्क की वजह से ही तो हम सबका वजूद है।

हम अक्सर देखते हैं कि देश के लिए शहीद होने वाले जवानों को सिर्फ 15 अगस्त या फिर 26 जनवरी के दिन ही याद किया जाता है। बाकि दिन हम ये भूल जाते हैं कि जो जवान सीमा पर हमारे और इस देश के खातिर शहीद हुए वो भी किसी के बेटे, पिता या फिर भाई थे, लेकिन इस दुनिया में अब भी कुछ ऐसे लोग हैं जो अपने-अपने तरीकों से शहीदों की उस लौ को जलाए रखने का काम करते हैं।

दिल्लीवासियों के लिए जल्द खुलेगा राव तुलाराम ब्रिज, एयरपोर्ट जाना होगा आसान

ऐसा ही एक शख्स है अभिषेक गौतम, जिन्होंने देश से प्यार और राष्ट्र के प्रति अपना प्यार जाहिर करने के लिए अपनी पीठ पर शाहीदों के नाम गुदवाए हुए हैं। आसान भाषा में कहें तो शहीदों के नाम के टैटू इन्होंने अपनी पीठ पर करवाए हैं।

Related imageअभ‍िषेक गौतम ने अपनी पीठ पर कारगिल में शहीद हुए 577 जवानों के नाम वाले 585 टैटू करवाए हैं। इसके लिए उन्होंने एक हफ्ते तक 6-6 घंटे सुंई की चुभन को बर्दाशत किया है। इस दौरान उन्हें काफी दर्द भी हुआ, यहां तक की बुखार भी आ गया। इसके बावजूद उन्होंने शहीदों के साथ ही कई महापुरुषों के नाम, चित्र, इंडिया गेट एवं शहीद स्मारक भी अपने शरीर पर गुदवाए। 

कुंभ 2019: प्रयागराज कुंभ की ये बातें बनाती हैं इसे और भी खास, विदेश से भी खिंचे चले आते हैं भक्त

शहीदों के प्रति उनका ये जुनून यहीं खत्म नहीं होता। इसके बाद वो उन शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके परिवारों से मिलने निकल पड़े। इसके लिए अभिषेक अपनी बाइक से सैकड़ों किमी की यात्रा कर देश के कोने-कोने में पहुंचे और वहां शहीदों को नमन किया।

एक इंटरव्यू में बातचीत के दौरान अभिषेक ने कहा कि इसके लिए मैंने करीब एक साल तक शहीदों के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए उनके परिवार वालों से भी मुलाकात की।अभिषेक कहते हैं कि एक दिन मुझे महसूस हुआ कि हमारे जवान इस देश के लिए अपनी जान तक न्यौछावर कर देते हैं।

कुंभ में भोले को जमकर चढ़ाए भांग, सरकार ने नहीं लगाई कोई रोक

 घर से दूर रहकर वह दिन रात हमारी रक्षा करते हैं, सिर्फ इतना ही नहीं कई दफा उन्हें देशवासियों के पत्थर भी झेलने पड़ते हैं। ऐसे में मेरी इच्छा हुई कि ऐसे हीरोज को अपनी ओर से इससे बेहतर श्रद्धांजलि नहीं हो सकती। बता दें कि हापुड़ के रहने वाले अभिषेक पेशे से इंटीरियर डिजाइनर है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.