Monday, Sep 27, 2021
-->
40-feet-deep-on-winter-hills-road-fear-among-people

विंटर हिल्स की सडक पर हुआ 40 फुट गहरा गडढा, लोगों में भय

  • Updated on 9/14/2021

नई दिल्ली। अनामिका सिंह। द्वारका मोड मेट्रो स्टेशन के नजदीक बनी बहुमंजिला इमारत ‘विंटर हिल्स’ में रहने वाले परिवारों को अपने जान-माल का डर सताने लगा है। करीब 40 फुट गहरी सडक यहां के फ्लैट्स में रहने वालों को काफी डरा रही है। क्योंकि ऐसा पहली बार नहीं बल्कि तीसरी बार हुआ है। इसकी शिकायत विंटर हिल्स द्वारका मोड रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन ने बिंदापुर थाने, एसडीएम द्वारका, दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथोरिटी (डीडीएमए) व दिल्ली फायर सर्विस को भी की है।
सफाई कर्मचारियों ने नौकरी को लेकर घेरा वीसी आफिस

लगातार भर रहा है बेसमेंट में गाद-पानी
बता दें कि उप्पल बिल्डर्स द्वारा विंटर हिल्स में 8 टाॅवर हैं, प्रत्येक टाॅवर 15 मंजिला बनाया गया है। दरअसल 3 सितंबर को अचानक सुबह 5 बजे के लगभग ई टाॅवर के लोगों को भूकंप की तरह कंपन महसूस हुई और वो निकलकर अपने घरों से बाहर जैसे ही आए तो देखा कि काफी बडा और करीब 40 फुट गहरा गडढा सडक में हो गया है। यही नहीं बिल्डिंग में बने छज्जों सहित जगह-जगह दरार आ रही हैं। इसकी जानकारी आरडब्ल्यूए ने तुरंत डीडीएमए व पुलिस को दी। उन्होंने आकर ई ब्लाॅक को खतरनाक बताते हुए लोगों को खाली करवाने का निर्देश दिया। लेकिन बाद में बिल्डर द्वारा एनओसी दिखाने पर वो लोग वहां से चले गए। लेकिन हाल यह है कि अभी भी अगल-बगल की काॅलोनियों में इकट्ठा हुआ बारिश का पानी इस बिल्डिंग के तीसरे भूतल में भर रहा है साथ ही गाद भी भारी संख्या में एकत्र हो गई है, जिसकी वजह वाॅटर प्रूफिंग का काम नहीं करवाया जाना है। यही नहीं बिल्डिंग की एक लिफ्ट नीचे गिर गई है और वहां बने गडढे में पानी भर गया है। यहां रहने वाले लोगों को अपनी जान का डर सता रहा है। मौके पर बिल्डर्स की ओर से आए इंजीनियर अरूण उपाध्याय से जब इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि सडक धंसने की इंवेस्टिगेशन चल रही है बेसमेंट में जीपीआर करवाया जा रहा है।
अंग्रेजों ने भी बनाई थी नगर प्राचीर, नाम दिया ‘माॅर्टेलो टाॅवर’

आए दिन होती है परेशानी: समीर सचदेवा (आरडब्ल्यूए उपाध्यक्ष)
हमें सालों इंतजार के बाद फ्लैट्स मिले, बावजूद इसके काफी घटिया निर्माण सामाग्री का प्रयोग करवाया गया है। इससे पहले बालकनी गिरती रही। सबसे पहले ए फिर सी और अब ई टाॅवर के सामने सडक धंस गई है। लगातार बेसमेंट में पानी आ रहा है हमें डर लग रहा है। अपनी जमापूंजी लगाकर लोगों ने करोडों में फ्लैट खरीदकर बदतर हालत में रहना पड रहा है।
दिल्ली को बसाने वाले पहले हिंदू राजा थे अनंगपाल तोमर, बनवाया था लालकोट का किला

पानी बाहर ना निकलने का इंतजाम किया लेकिन अंदर आने का नहीं: राजेश बुद्धिराजा
मैं खुद इंजीनियर हूं आईआईटी खडगपुर से इंजीनियरिंग की। यहां रहते हुए पाया कि बिल्डर ने वाॅटर प्रूफिंग का काम सही तरीके से नहीं करवाया। साथ ही बिल्डिंग का पानी बाहर ना निकले इसका इंतजाम हुआ पर बाहर का पानी अंदर ना आए इसका कोई इंतजाम नहीं किया गया। जिससे बेसमेंट में पानी व गाद भरा हुआ है लगातार अगल-बगल की काॅलोनियों का पानी यहां आ रहा है। जिससे नींव कमजोर हो रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.