Tuesday, Jan 31, 2023
-->
40-sukhoi-fighter-aircraft-preparing-for-brahmos

ब्रह्मोस के लिए तैयार हो रहे 40 सुखोई लड़ाकू विमान

  • Updated on 12/18/2017

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश के 40 सुखोई लड़ाकू विमानों में परिवर्तन करने का काम शुरू किया जा रहा है ताकि वह तेजी से उभरते क्षेत्रीय सुरक्षा पहलुओं के बीच भारतीय वायुसेना की महत्वपूर्ण जरूरतों को पूरा करते हुए ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों का प्रक्षेपण कर सकें।

फिर निर्भया कांड: लड़की के दोस्त को मारा-पीटा और लूटी आबरू

दुनिया की सबसे तेज रफ्तार सुपरसोनिक मिसाइल के आकाश से मार करने वाले संस्करण का सुखोई-30 लड़ाकू विमान से 22 नवंबर को सफल प्रक्षेपण किया गया। इसके साथ ही भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है। अधिकारिक सूत्रों ने विस्तृत जानकारी दिए बगैर बताया कि 40 सुखोई विमानों को ब्रह्मोस को प्रक्षेपित करने के लिए तैयार करने का काम शुरू हो गया है। इस परियोजना की समय सीमा तय हो गयी है।

सूचनाओं के मुताबिक यह परियोजना 2020 तक पूरी हो जाएगी। ब्रह्मोस के प्रक्षेपण के लायक बनाने के लक्ष्य से सरकारी हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) में इन 40 सुखोई विमानों में संरचनात्मक बदलाव किये जाएंगे।  ढाई टन वजनी यह मिसाइल ध्वनि की गति से तीन गुना तेज, मैक 2.8 की गति से चलती है और इसकी मारक क्षमता 250 किलोमीटर है।

अब मिलेगी ताजी बीयर, दिल्ली सरकार ने शहर में माइक्रो ब्रुअरीज की अनुमति दी

 भारत को पिछले वर्ष मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रेजीम (एमटीसीआर) की पूर्ण सदस्यता मिलने के बाद उसपर लगे कुछ तकनीकी प्रतिबंध हटने के बाद इस मिसाइल की क्षमता को बढ़ाकर 400 किलोमीटर तक किया जा सकता है। भारत और रूस के संयुक्त उपक्रम वाला ब्रह्मोस मिसाइल सुखोई-30 लड़ाकू विमानों के साथ तैनात किया जाने वाला सबसे भारी हथियार होगा।

ब्रह्मोस के महत्वपूर्ण तथ्य

- मैक 2.8-3.0 की रफ्तार से जाती है मिसाइल
- पानी की सतह से 3-4 मीटर ऊपर चलने की क्षमता
- विमान व पनडुब्बी वेरिएंट अभी परीक्षण चरण में
- वजन 2500-3000 किलोग्राम, लंबाई 8.4 मीटर
- एक यूनिट की लागत 2.7 मिलियन यूएस डॉलर
- परंपरागत विस्फोटक वहन क्षमता 200 किग्रा, परमाणु 
आयुध क्षमता 300 किग्रा
- ईंधन: पहला चरण ठोस रॉकेट बूस्टर, दूसरा द्रव रैमजेट
-मारक दूरी: जमीन/समुद्री प्लेटफॉर्म से 450 किमी और विमान से 400 किमी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.