Thursday, May 06, 2021
-->
500 accounts related to farmer movement suspended kmbsnt

किसान आंदोलन: 500 अकाउंट्स सस्पेंड, पत्रकार/पॉलिटिशियन पर ट्विटर ने नहीं लिया एक्शन

  • Updated on 2/11/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। किसान आंदोलन (Farmers Protest) के बीच उपद्रव की साजिश प्रकरण में आखिर भारत सरकार की सख्ती के बाद ट्विटर ने 500 अकाउंट सस्पेंड कर दिए हैं। सोशल मीडिया पर ट्विटर ने इसकी जानकारी दी और कहा कि जिन अकाउंट को सस्पेंड किया गया है वह कंपनी की पॉलिसी का वायलेशन कर रहे थे।

बता दें कि इससे पहले सरकार ने आईटी एक्ट की धारा 69 के तहत ट्विटर को नोटिस दिया था और कहा था कि अगर विवादित अकाउंट ब्लॉक नहीं किए गए तो उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हालांकि ट्विटर ने यह भी कहा है कि ब्लॉक किए गए 271 अकाउंट ऐसे भी हैं जिन्हें केवल भारत में ही ब्लॉक किया गया है, जबकि अन्य देशों में चालू रहेंगे।

सरकार ने 4 फरवरी इसके बाद फिर 8 फरवरी को ट्विटर से 1178 पाकिस्तानी, खालिस्तानी अकाउंट हटाने को कहा था। सरकार का कहना था कि इन अकाउंट के जरिए किसान आंदोलन से जुड़ी गलत जानकारियां और भड़काऊ कंटेंट फैलाया जा रहा है।

उपराज्यपाल किरण बेदी से खफा CM नारायणसामी ने राष्ट्रपति से की मुलाकात

पत्रकार/पॉलिटिशियन के अकाउंट पर एक्शन नहीं
ट्विटर ने कहा है कि जिन 271 अकाउंट को सिर्फ भारत में बंद किया गया है उनमें न्यूज़ मीडिया, पत्रकार, एक्टिविस्ट और पॉलिटिशियन से जुड़े किसी लोगों के अकाउंट नहीं है। क्योंकि फ्रीडम आफ एक्सप्रेशन को प्रोटेक्ट करते हुए इन पर एक्शन नहीं लिया जा सकता।

ट्विटर ने आपत्तिजनक कंटेंट की विजिबिलिटी हटाई
ट्विटर के मुताबिक पिछले हफ्तों में हुई हिंसा की घटनाओं को देखते हुए आपत्तिजनक कंटेंट की विजिबिलिटी भी कम कर दी गई है। साथ ही कहा कि दिल्ली में रिपब्लिक डे को हुई हिंसा के बाद भारत में अपने नियमों को लागू करवाने के लिए जो कदम उठाए जा रहे हैं उसके बारे में रेगुलर अपडेट दे रहे हैं।

Red Fort Violence: खुलेंगे हिंसा से जुड़े राज! स्पेशल सेल के हत्थे चढ़ा आरोपी इकबाल सिंह

ट्रैक्टर रैली की आड़ में राजधानी में हुई  हिंसा
बता दें कि 26 जनवरी के दिन किसानों ने ट्रैक्टर रैली निकाली थी। इस दौरान लाल किला, आईटीओ, बुराड़ी, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के कई इलाकों में हिंसा हुई। पुलिसवालों को बेरहमी से पीटा गया। उन पर तलवारों, ड़ड़ों से हमले किए गए। इस  पूरी हिंसा में 394 पुलिसकर्मी घायल हुए। वहीं इस दौरान एक किसान की मौत भी हुई। लाल किले पर निशान-साहेब का झंडा भी फहराया गया। अब पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है, अब तक इस मामले में कई गिरफ्तारियां भी हो चुकी हैं। 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.