Thursday, Dec 12, 2019
5g network can cause cancer and infertility in women

सिर्फ हाई-स्पीड इंटरनेट ही नहीं हेल्थ प्रॉब्लम्स भी दे सकता है 5 G नेटवर्क, बढ़ सकती हैं गंभीर बीमार

  • Updated on 7/16/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 4जी आ चुका है और अब दुनिया भर में इंटरनेट को और भी तेज करने के लिए 5जी पर भी काम शुरू हो गया है और 5जी के व्यावसायिक इस्तेमाल को हरी झंडी भी मिल चुकी है, इसी के चलते स्मार्टफोन कंपनी सैमसंग ने अपना 5जी स्मार्टफोन बाजार में उतार भी दिया है। यही नहीं कई ऑटोमोबाइल(Automobile) कंपनी भी अपनी 5जी इंटरनेट से कनेक्टेड कारें भी बाजार में पेश कर रही हैं।

Video: भारतीय हैकर ने बताया इंस्टाग्राम को हैक करेन का तरीका, फेसबुक ने दिया इतने लाख का ईनाम

सेहत पर पड़ सकता है असर
5जी स्पीड इंटनेट(Internet) एक ऐसी सेवा होगी, जिसके इस्तेमाल के दौरान यूजर्स को किसी भी फाइल को डाउनलोड करने के लिए सैकेंड्स का भी इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इसकी स्पीड काफी चौंकाने वाली होगी। हालांकि, इन सब के बीच इन दिनों 5जी के इस्तेमाल से सेहत पर पड़ने वाला असर हर तरफ चर्चा का विषय बना हुआ है। हर कोई इसी चर्चा में लगा है कि इस नेटवर्क से मनुष्य की जीवनशैली और उसकी सेहत पर क्या प्रभाव होगा।

Apple वॉच ने फिर दिखाया अपना कमाल, जानें कैसे डूबते आदमी की जान बचाई

मानव जाति के लिए खतरा
आपको बता दें कि विशेषज्ञों का मानना है कि 5जी से इंटरनेट स्पीड में जितनी बढ़ोत्तरी होगी उससे कहीं ज्यादा बढ़ोत्तरी बीमारियों में होगी। हालांकि वैज्ञानिकों ने इस दावे की पुष्टी नहीं की है, लेकिन माना जा रहा है कि 5जी जीवों सहित मानव जाति के लिए भी खतरा उत्पन्न कर सकती है।

शॉओमी ने लॉन्च किया थ्री ब्राइटनेस लेवल वाला रिचार्जेबल लाइट लैंप

इसके इस्तमाल से निकलने वाली रेडिएशन्स से व्यक्ति को कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं और ये बीमारियां कैंसर, इनफर्टिलिटी, ब्रेन ट्यूमर और स्ट्रोक जैसी हो सकती हैं। जिससे व्यक्ति के शरीर के साथ ही उसकी जिंदगी को भी खतरा हो सकता है।

हाथी ने डस्टबिन में डाला कचरा, तो VIDEO देखकर बोले लोग- 'जानवरों को भी पता है क्या करना है'

रिसर्च में हुआ खुलासा
बता दें मोबाइल और इंटरनेट के इस्तेमाल को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO  ने 2014 में एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें कहा गया था कि मोबाइल फोन के नेटवर्क की वजह से व्यक्ति को किसी तरह का खतरा नहीं होता है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन के इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर में यह बात साफ की गई थी कि रेडियो फ्रीक्वेंसी रेडिएशन्स की वजह से मनुष्य को कैंसर और ऐसी ही अन्य गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.