Sunday, Sep 19, 2021
-->
9-rebel-mlas-of-bsp-can-meet-akhilesh-today-preparations-are-on-to-join-sp-prshnt

BSP के बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश से कर सकते हैं मुलाकात, SP में शामिल होने की है तैयारी

  • Updated on 6/15/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी से बागी हुए 9 नेता आज अखिलेश यादव से मुलाकात करेंगे। बताया जा रहा है कि बसपा से बागी हुए ये तेजा आज सपा से हाथ मिला सकते हैं। अगर ऐसे होता है तो विधानसभा चुनाव से पहले बसपा के लिए बड़ी चुनौती खड़ी हो जाएगी। 

अयोध्या भूमि खरीद विवाद: राउत ने न्यास से स्पष्टीकरण की मांग की

बसपा विधायकों
दरअसल राजेंद्र गुडा सहित बसपा के छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए थे और विधानसभा में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की संख्या के लिए महत्वपूर्ण हैं। बाकी बसपा विधायकों में लखन मीणा, दीपचंद खेरिया, संदीप यादव, जे.एस. अवाना, और वाजिब अली।

कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुडा ने कहा, लगभग एक साल पहले, 19 विधायक कांग्रेस छोड़ चुके थे, और यह हम -10 निर्दलीय + 6 बसपा विधायक नहीं होते, राजस्थान सरकार अपनी पहली पुण्यतिथि की तैयारी कर रही होती। आलाकमान इसे क्यों नहीं समझता? उनके पास बहुमत नहीं था और हमने सरकार बचाई।

अडाणी समूह ने अपने विदेशी निवेशकों के खातों को जब्त किए जाने सबंधी खबर को गलत बताया 

ओमप्रकाश राजभर का इंतकार
बता दें कि दूसरी ओर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने आगामी यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ किसी प्रकार के गठबंधन से इनकार कर दिया है। राजभर ने आरोप लगाया कि भाजपा में पिछड़े वर्ग के नेताओं की हालत गुलामों जैसी है।

इसके साथ ही उन्‍होंने साफ किया कि वह भाजपा के किसी नेता के सम्पर्क में नहीं हैं। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार में पिछड़ा वर्ग कल्‍याण मंत्री रह चुके राजभर ने भविष्य में भाजपा से गठजोड़ करने से साफ मना कर दिया। राजभर ने दावा किया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी अगर उन्हें बुलाते हैं, तो भी वह उनसे नहीं मुलाकात करेंगे। 

वहीं 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले राजभर की पार्टी ने भाजपा से गठजोड़ किया था और यह करार शाह की मौजूदगी में हुआ था। उन्‍हें भाजपा ने 8 सीटें दी थीं, जिनमें 4 सीटों पर राजभर समेत उनकी पार्टी के प्रत्याशी जीते थे। इसके बाद योगी सरकार में राजभर को मंत्री बनाया गया, लेकिन कुछ महीने बाद ही उनका भाजपा से मोहभंग होता गया और आखिर में उन्होंने गठबंधन तोड़ दी।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.