Wednesday, Nov 25, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 25

Last Updated: Wed Nov 25 2020 08:10 AM

corona virus

Total Cases

9,221,998

Recovered

8,641,404

Deaths

134,743

  • INDIA9,221,998
  • MAHARASTRA1,784,361
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA871,342
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA557,442
  • NEW DELHI534,317
  • UTTAR PRADESH528,833
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT194,402
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com

भारतीय सेना ने इस साल जुलाई तक 92 आतंकियों को किया ढेर

  • Updated on 7/6/2017

Navodayatimes

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जम्मू-कश्मीर में आतंकियों को भारतीय सेना हर दिन मुंहतोड़ जवाब दे रही है। सामने आए आंकड़े बताते हैं कि  2017, जुलाई तक भारतीय सेना ने 92 आतंकियों को मार गिराया, जबकि 2016, जुलाई को आतंकियों का आंकड़ा 79 था। इस साल मारे गए आतंकियों का आंकड़ा 2012 और 2013 के सालाना फिगर को भी पार कर गया है।

भारत के विरोध पर ब्रिटेन की बुरहान रैली हुई रद्द, घाटी में भी स्कूल बंद

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में 2012 में 72, जबकि 2013 में 67 आतंकी मारे गए थे। वहीं, एनडीए के कार्यकाल 2014 में यह आंकड़ा उछलकर 110 पहुंच गया। 2015 में कुल 108, जबकि 2016 में 150 आतंकी मारे गए।

इजरायल में मोदी: पहले गिनाई उपलब्धियां फिर बरसाई सौगातें

गृह मंत्रालय के एक सीनियर अफसर के मुताबिक, 2017, 2 जुलाई तक मारे गए आतंकियों की संख्या 2014 और 2015 में मारे गए आतंकियों के आंकड़े से थोड़ा ही कम है। अधिकारी ने बताया कि इस साल 2 जुलाई तक मारे गए 92 आतंकियों में से अधिकतर बड़े आतंकी चेहरे थे। वहीं, उन्होंने आतंकियों के खिलाफ इस कामयाबी का श्रेय सेना, केंद्रीय बलों, राज्य सरकारों और इंटेलिजेंस एजेंसियों के बीच बेहतर तालमेल को देते हैं।

पीएम मोदी के इजरायल दौरे का आज आखिरी दिन, शहीदों को देंगे श्रद्धांजलि

अधिकारी का कहना है कि सुरक्षाबलों को घाटी में छिपे आतंकियों का पता लगाने और उनका सफाया करने के लिए फ्री हैंड दिया गया है। आतंकियों के खिलाफ अभियान छेड़ने से पहले लक्ष्य का पूरा नक्शा तैयार किया जाता है और यह तय किया जाता है कि कम से कम नुकसान में आतंकियों का खात्मा कैसे किया जाए। 

J&K: अलगाववादियों के खिलाफ सरकार का बड़ा कदम, मीरवाइज की घटाई सुरक्षा

बता दें कि 2016 में घुसपैठ के कुल 371 केस दर्ज किए गए, जबकि इस साल मई तक यह आंकड़ा घटकर 124 हो गया। वहीं, इस साल 2 जुलाई तक आतंकवाद से जुड़ी 168 वारदात हुईं, जबकि 2016 में यह आंकड़ा 126 था। जहां तक पथराव की घटनाओं का सवाल है, उसमें इस साल कमी देखी गई है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.