Wednesday, Jun 16, 2021
-->
aap-alleges-delhi-bjp-disrupts-scheme-to-provide-house-to-house-rations-to-harass-poor-rkdsnt

घर-घर राशन पहुंचाने की योजना को लेकर AAP ने BJP पर लगाए आरोप

  • Updated on 3/31/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राष्ट्रीय राजधानी में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने बुधवार को आरोप लगाया कि दिल्ली भाजपा ने गरीबों को प्रताडि़त करने के लिए शहर में घर-घर राशन पहुंचाने की योजना बाधित की। आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) ने अपने स्कूलों में बच्चों को सूखा राशन देने की योजना शुरू की लेकिन केवल एक एमसीडी स्कूल में राशन का वितरण किया। 

आंदोलनकारी किसानों ने अब संसद तक पैदल मार्च का किया ऐलान

आप के आरोपों का जवाब देते हुए दिल्ली भाजपा ने कहा कि लगता है कि आप नेता सौरभ भारद्वाज और दुर्गेश पाठक प्रतिदिन नगर निकायों पर आधारहीन आरोप लगाने के मामले में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। भारद्वाज ने संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि ऐसा कोई संकेत नहीं है कि एमसीडी के स्कूलों में पढ़ रहे चार लाख विद्याॢथयों को सूखा राशन मिलेगा भी या नहीं। 

यूपी में भाजपा से मुकाबला करने को सोशल मीडिया वारियर्स बनाएगी कांग्रेस

उन्होंने कहा, ‘‘यह शर्मनाक है कि भाजपा शासित एमसीडी ने अपने एक स्कूल में सूखे राशन का वितरण किया और इस योजना के लिए अभी निविदा निकाला जाना भी बाकी है।’’ भारद्वाज ने कहा, ‘‘दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता,उत्तरी दिल्ली नगर के महापौर एवं अन्य भाजपा नेताओं ने इस योजना की शुरुआत एक ही स्कूल में की थी। क्या उनको कोई शर्म नहीं है।’’ 

कोयला ब्लॉक आवंटन पर विपक्ष के आरोप, गोवा की भाजपा सरकार ने दी सफाई

दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने हालांकि कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के स्कूलों में पढऩे वालों बच्चों को राशन वितरित करने का कार्य शुरू हो गया है, इसके लिए मध्यान्ह भोजन योजना के तहत बचे राशन का इस्तेमाल किया जा रहा है जिसके लिए निविदा निकालने की जरूरत नहीं है। 

फेसबुक ने विधानसभा चुनाव के बीच नफरतभरे भाषण पर रोक के लिए उठाए कदम

उन्होंने कहा कि अप्रैल के बाद योजना के लिए निविदा जारी की जाएगी। कूपर ने कहा कि भारद्वाज को लोगों को भ्रमित करना बंद कर देना चाहिए और स्पष्ट करना चाहिए कि दिल्ली सरकार के स्कूलों में राशन वितरण का कार्य एक महीने बाद ही क्यों बंद हो गया। 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

comments

.
.
.
.
.