Thursday, Feb 09, 2023
-->
aap atishi saurabh hits back at bjp for regularizing kashmiri pandits migrant teachers rkdsnt

कश्मीरी प्रवासी शिक्षकों को नियमित करने के मुद्दे पर AAP ने किया BJP पर पलटवार

  • Updated on 3/29/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि शहर की अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली सरकार से मंजूरी मिलने के बावजूद उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ाने वाले कश्मीरी प्रवासी शिक्षकों की सेवाएं नियमित करने का बार-बार विरोध किया है।

फिर बढ़े पेट्रोल और डीजल दाम, दिल्ली में 100 रुपये लीटर के ऊपर

गौरतलब है कि एक दिन पहले ही शिक्षकों के एसोसिएशन ने प्रवासी शिक्षकों की सेवाएं नियमित करने का श्रेय लेने पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना की और कहा कि इस संबंध में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद सरकार के पास कोई विकल्प नहीं बचा था। 

मुजफ्फरनगर में किसान नेता राकेश टिकैत का अनिश्चितकालीन धरना शुरू

दिल्ली विधानसभा परिसर में संवाददाता सम्मेलन में आप विधायक आतिशि और सौरभ भारद्वाज ने शिक्षक एसोसिएशन के दावे को झुठलाते हुए उसे ‘झूठा और भ्रमक’ बताया तथा भाजपा पर इसे लेकर राजनीति करने का आरोप लगाया।      ‘सरकारी स्कूल शिक्षक एसोसिएशन (प्रवासी)’ के समन्वयक दीलिप भान द्वारा सोमवार को जारी बयान से राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है और भाजपा जमकर आप पर निशाना साध रही है।   

शाह के फैसले से नाराज हरसिमरत कौर, कहा- चंडीगढ़ हमारे लिए भावनात्मक मुद्दा

  आतिशि ने कहा, ‘‘आप सरकार के गठन के बाद ये कश्मीरी शिक्षक केजरीवाल के पास आए और (उपमुख्यमंत्री) मनीष सिसोदिया से भी मिले। केजरीवाल सरकार ने तय किया कि उनकी सेवाएं नियमित की जानी चाहिए। कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।’’  

प्रियंका की राजनाथ से अपील- सेना में तत्काल निकालें भर्ती, युवाओं को आयुसीमा में मिले छूट

    उन्होंने दावा किया, लेकिन उपराज्यपाल बैजल ने 235 शिक्षकों की सेवाएं नियमित करने का विरोध किया।      संवाददाता सम्मेलन में कुछ दस्तावेज दिखाते हुए आतिशि ने दावा किया, ‘‘भाजपा के उपराज्यपाल (बैजल) फाइल पर यह नोट लिखते हैं कि यह सेवा से जुड़ा मामला है और इसमें हस्तक्षेप करना दिल्ली सरकार के अधिकार क्षेत्र में नहीं है और इस संबंध में सभी फैसले उपराज्यपाल द्वारा लिए जाएंगे।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि यह फैसला अकेले उपराज्यपाल का नहीं था, बल्कि उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्रालय से भी इस पर चर्चा की थी। 

मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ श्रमिक संगठनों की हड़ताल, बैंकों और खनन क्षेत्र पर असर

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.