Wednesday, Jun 19, 2019

पंजाब में कांग्रेस से नहीं बनी AAP की बात, पार्टी ने तय अपने उम्मीदवार

  • Updated on 4/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी ने पंजाब में कांग्रेस के साथ गठबंधन के मुद्दे पर बात नहीं बन पाने के बाद पंजाब की तीन सीटों (भटिंडा, खदूर साहिब और लुधियाना) पर उम्मीदवारों के नाम तय कर लिये हैं। इस बीच पंजाब और हरियाणा में कांग्रेस के साथ गठबंधन की बात नहीं बन पाने के मद्देनजर दिल्ली में भी गठबंधन की उम्मीदों पर संशय के बादल गहरा गये हैं। 

स्वरा भास्कर ने कन्हैया कुमार की नामांकन रैली में BJP-RSS पर बोला हमला

आप के सूत्रों के अनुसार उम्मीदवारों की घोषणा अगले एक दो दिन में कर दी जायेगी। उम्मीदवारों के नाम तय करने के लिये आप की पंजाब इकाई के प्रभारी मनीष सिसोदिया की अध्यक्षता में मंगलवार को बैठक हुयी। सिसोदिया के यहां स्थित आवास पर हुयी बैठक में आप की पंजाब इकाई के संयोजक भगवंत सिंह मान सहित अन्य नेता मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि आप ने पंजाब की 13 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस के साथ चुनावी गठबंधन की उम्मीद को देखते हुये इन तीन सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषित नहीं किये थे।

कन्हैया कुमार की नामांकन रैली में दिखा जबरदस्त उत्साह, BJP पर बरसे 

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पहले ही राज्य में किसी दल के साथ गठबंधन की जरुरत से इंकार करते हुये कांग्रेस के अपने बलबूते चुनाव लडऩे का सुझाव पार्टी नेतृत्व को दे चुके हैं। सिंह के मना करने के बाद आप नेतृत्व ने कांग्रेस के समक्ष दिल्ली में गठबंधन के लिये हरियाणा और चंडीगढ़ में भी गठबंधन की शर्त रख दी है।

राहुल गांधी को नामांकन पत्र भरने से पहले घेरने में जुटीं स्मृति ईरानी

कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि दिल्ली और हरियाणा में दोनों दलों के बीच गठबंधन के मुद्दे पर पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल की अध्यक्षता में बैठक हुयी। समझा जाता है कि बैठक में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा और प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर सहित अन्य नेता मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस नेतृत्व सिर्फ दिल्ली में ही आप के साथ गठबंधन के लिये रजामंद है। इसके मद्देनजर आप खेमे ने कांग्रेस को स्पष्ट कर दिया है कि दिल्ली में गठबंधन पर बात तब ही बनेगी जब हरियाणा और चंडीगढ़ को भी गठबंधन के दायरे में शामिल किया जाये। 

संकल्प पत्र पर कांग्रेस ने कहा, BJP-RSS आज की 'मंथरा और कैकेयी'

सूत्रों के अनुसार कांग्रेस नेताओं के असमंजस को देखते हुये सिसोदिया और आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने पार्टी नेतृत्व को गठबंधन का विचार त्याग कर अपने बलबूते चुनाव लडऩे का सुझाव दिया है। समझा जाता है कि पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल को भी कांग्रेस से हरियाणा और दिल्ली में गठबंधन के मुद्दे पर बात बनने की उम्मीद है।

ममता बनर्जी का मोदी पर तंज, बोलीं- मैंने ऐसा झूठा प्रधानमंत्री कभी नहीं देखा


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.