Sunday, Oct 02, 2022
-->
aap delhi govt announcement business blasters program now in private schools rkdsnt

सिसोदिया का ऐलान- बिजनेस ब्लास्टर्स कार्यक्रम अब प्राइवेट स्कूलों में भी होगा लॉन्च

  • Updated on 3/5/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को कहा कि विद्यार्थियों में उद्यमिता सोच को प्रात्साहित करने पर केंद्रित दिल्ली सरकार का ‘बिजनेस ब्लास्टर्स कार्यक्रम’ अगले साल से निजी विद्यालयों में भी शुरू किया जाएगा। वह यहां त्यागराज स्टेडियम में ‘बिजनेस ब्लास्टर्स इनवेस्टमेंट समिट एवं एक्सपो’ में बोल रहे थे, जहां सरकारी विद्यालयों के विद्याॢथयों के कारोबार से संबंधित 100 से अधिक विचार निवेशकों के सामने पेश किये गये। 

सातवें चरण के वोटिंग से पहले BJP सांसद रीता बहुगुणा के पुत्र मयंक सपा में शामिल

सिसोदिया ने कहा, ‘‘बिजनेस ब्लास्टर्स कार्यक्रम का अगले साल से निजी विद्यालयों में विस्तार किया जाएगा। सात मार्च को एक बैठक की जाएगी कि कैसे इसे निजी विद्यालयों में लागू किया जा सकता है।’’ शिक्षा विभाग का भी कामकाज देख रहे उपमुख्यमंत्री ने कहा कि फेसबुक और ट्विटर जैसी बड़ी वैश्विक कंपनियां भारत से भी निकलनी चाहिए और बिजनेस ब्लास्टर्स कार्यक्रम विद्यार्थियों में उद्यमिता सोच विकसित करती है। 

NSE मामले में चित्रा रामकृष्ण को अदालत से नहीं मिली राहत, CBI की भी हुई खिंचाई

बिजनेस ब्लास्टर्स दिल्ली सरकार का स्टार्ट-अप कार्यक्रम है, जहां 11वीं और 12वीं कक्षाओं के विद्यार्थी बिजनेस विचार प्रतिपादित करते हैं और सरकार उसे आकार देने में उनकी मदद करती है। सिसोदिया ने दिल्ली सरकार के विद्यालयों में दो स्वीमिंग पुल का उद्घाटन किया और कहा कि सरकारी एवं निजी विद्यालय के विद्यार्थी एक अप्रैल से उनके लिए पंजीकरण करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि इन दोनों पुल के बाद अब दिल्ली सरकार के विद्यालयों में 24 ‘अत्याधुनिक स्वीमिंग पुल’ हैं। 

निजी क्षेत्र को ट्रेन संचालन की इजाजत देने वाले प्रोजेक्ट पर अमिताभ कांत ने दी सफाई

उन्होंने कहा कि फिलहाल सरकारी विद्यालय के विद्यार्थी तैराकी सीखने के लिए निजी विद्यालयों में जाते हैं, जहां उन्हें भारी शुल्क अदा करना पड़ता है, लेकिन ‘‘ एक अप्रैल से सरकारी एवं निजी विद्यालयों दोनों के ही विद्यार्थी दिल्ली सरकार के विद्यालयों में इन पुल में मुफ्त कोचिंग हासिल करेंगे। दिल्ली के सभी छात्रों को यहां अपना पंजीकरण कराने का निमंत्रण हैं। उभरते तैराक को प्रशिक्षण देने के लिए इन पुलों में प्रशिक्षित कोच हैं।’’उन्होंने दावा किया कि दिल्ली सरकार के कुछ विद्यालयों के भवन तो आईआईटी एवं आईआईएम जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से भी बेहतर हैं।

यमुना प्रदूषण: अनधिकृत कॉलोनियों में सीवर लाइन को मंजूरी

यमुना नदी में प्रदूषण पर काबू पाने के लिए एक बड़े कदम के तहत दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) ने राष्ट्रीय राजधानी में अनधिकृत कॉलोनियों में सीवर 575 किलोमीटर लंबी सीवर लाइन बिछाने की एक परियोजना को शनिवार को मंजूरी दी।      बोर्ड ने कहा कि शाहबाद, संगम विहार, जाफरपुर, गालिबपुर, सारंगपुर, गोयल विहार, किलोकरी, कंगनहेड़ी आदि कॉलोनी में सीवर लाइन बिछायी जाएगी।  

राष्ट्रीय राजधानी में 1799 अनधिकृत कॉलोनी हैं। उनमें से 685 में पिछले साल अक्टूबर में सीवर लाइन चालू हो गयी थी और सरकार की योजना बाकी कॉलोनी को दिसंबर, 2024 तक सीवर नेटवर्क के तहत लाने की है।  दिल्ली के जल मंत्री सत्येंद्र जैन की अध्यक्षता में हुई बैठक में बोर्ड ने बारापुला नाले के मुहाने पर ‘इंटरसेप्टर सीवर’ बनाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी। बारापुला नाला यमुना में गिरने वाले चार बड़े नालों में एक है।  

रूस-यूक्रेन संकट के कारण घरेलू इस्पात पांच हजार रुपये प्रति टन तक महंगा 

comments

.
.
.
.
.