कांग्रेस से दिल्ली में गठबंधन पर AAP के गोपाल राय ने हाथ खड़े किए

  • Updated on 1/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आगामी लोकसभा चुनाव में दिल्ली की 7 सीटों पर आप और कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर संशय के बादल लगातार गहराते जा रहे हैं। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित द्वारा गठबंधन की संभावनाओं को सिरे से नकारने के बाद आप नेता गोपाल राय ने भी इस मामले में अनिश्चितता की बात को स्वीकार किया है।

राकेश अस्थाना समेत CBI के 4 अधिकारियों के कार्यकाल में कटौती

AAP की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने बृहस्पतिवार को कहा, 'AAP और कांग्रेस के बीच गठबंधन होगा या नहीं होगा, अभी यह कह पाना बहुत मुश्किल है।’’ राय ने पार्टी की लोकसभा चुनाव की तैयारियों के बारे में संवाददाताओं को बताया कि दिल्ली के लोग दो बातों के लिये अपने सांसदों को चुनना चाहते हैं, पहला मोदी को हराने के लिए और दूसरा ऐसे सांसदों को जिताना, जो दिल्ली सरकार द्वारा किये जा रहे विकास कार्यों में मददगार बनें, भाजपा सांसदों की तरह बाधक नहीं बनें।

भारतीय रेलवे ने हजारों ड्राइवरों एवं गार्ड को दिया बड़ा तोहफा

उन्होंने कहा ‘‘लोगों की इस इच्छा पर कांग्रेस कहां खड़ी होती है, इसका उसे जमीन पर जाकर आंकलन करने की जरूरत है।’’ AAP और कांग्रेस के गठबंधन के सवाल पर कुछ भी कह पाने में असमर्थता जताते हुये राय ने कहा ‘‘एक बात सच है कि दिल्ली सहित पूरे देश में जो परिस्थितियां बन रही है उसके मुताबिक या तो भाजपा को जिताने के लिये लोग वोट करेंगे या इस तानाशाही को हराने के लिये वोट करेंगे। जहां तक दिल्ली का सवाल है तो आप, दिल्ली में भाजपा को हरा सकती है। कांग्रेस दूर नहीं बल्कि बहुत दूर खड़ी है।’’ 

केजरीवाल बोले- दिल्ली के लोगों ने रचा इतिहास, अब हरियाणा की बारी है

उन्होंने कहा कि जमीनी परिस्थितियों के मद्देनजर आप ने सभी सात सीटों पर अपनी तैयारियों को तेज कर दिया है। इस कड़ी में आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की अगुवाई में प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र के पदाधिकारियों की बैठक हो रही है। इस कड़ी में शुक्रवार को अंतिम लोकसभा क्षेत्र के पदाधिकारियों की बैठक है। 

BCI ने जस्टिस खन्ना को सुप्रीम कोर्ट का न्यायाधीश बनाने का किया विरोध

 उन्होंने कहा कि पार्टी अब पूरी तैयारी से चुनाव में उतरने के लिये तैयार हैं। पार्टी ने प्रदेश इकाई के 18 आनुषंगिक संगठनों का गठन कर इन्हें सक्रिय कर दिया है। राय ने बताया कि इस कड़ी में बृहस्पतिवार को ग्रामीण मोर्चा, पिछड़ा वर्ग, डाक्टरों और आरडब्ल्यूए के आनुषंगिक संगठनों का गठन भी कर दिया गया है। 

चीफ जस्टिस गोगोई के निशाने पर क्यों आए प्रशांत भूषण?

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.