Monday, Nov 28, 2022
-->
aap tells agneepath protesters - stay away from violence bjp modi govt will eventually bow down

AAP ने अग्निपथ प्रदर्शनकारियों से कहा - हिंसा से दूर रहें, सरकार को झुकना ही होगा

  • Updated on 6/20/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  आम आदमी पार्टी (आप) ने सोमवार को दावा किया अग्निपथ योजना न केवल रंगरूटों के भविष्य को अनिश्चित बनाएगी, बल्कि भारत की सुरक्षा के साथ 'समझौता' भी करेगी। आप ने साथ ही प्रदर्शनकारियों को हिंसा से दूर रहने और नयी सैन्य भर्ती योजना के खिलाफ ‘‘आंदोलन’’ को बनाये रखने के लिए योजना तैयार करने का आह्वान किया। 

CM मान ने पंजाब यूनिवर्सिटी को लेकर अमित शाह को लिखा पत्र, जताई आपत्ति

आप के राज्यसभा सदस्य एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने इस बात पर जोर दिया कि नरेंद्र मोदी सरकार को अंतत: इस योजना को वापस लेना होगा, यदि इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन हिंसा के बिना लोकतांत्रिक तरीके से जारी रहता है। उन्होंने कहा कि आप नयी सैन्य भर्ती योजना का विरोध करने के लिए पहले ही सड़कों पर उतर चुकी है और आगामी मानसून सत्र के दौरान संसद में भी इस मुद्दे को मजबूती से उठाएगी। देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शनों के बीच सेना ने सोमवार को अग्निपथ सैन्य भर्ती योजना के तहत सैनिकों को भर्ती करने के लिए एक अधिसूचना जारी की, जिसके तहत आवेदकों का ऑनलाइन पंजीकरण अगले महीने से शुरू होगा। 

नवाब मलिक, देखमुख की अस्थायी रिहाई के लिए सुप्रीम कोर्ट का किया रुख

14 जून को घोषित अग्निपथ योजना में साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष की आयु के युवाओं को केवल चार साल के लिए भर्ती करने का प्रावधान है, जिसमें से 25 प्रतिशत को 15 और वर्षों तक बनाए रखा जाएगा। सरकार ने 2022 में भर्ती के लिए ऊपरी आयु सीमा को बढ़ाकर 23 वर्ष कर दिया है। आप सांसद ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मैं युवाओं से कहना चाहता हूं कि आप अपने आंदोलन को लंबे समय तक बनाए रखने के लिए एक योजना तैयार करें ताकि (केंद्र) सरकार पर दबाव बनाया जा सके। हिंसा के जरिये यह आंदोलन लंबे समय तक नहीं चलेगा।’’ सिंह ने अपनी पार्टी का समर्थन जताते हुए आंदोलनकारियों को विरोध प्रदर्शन करने के लोकतांत्रिक तरीके का पालन करने की सलाह दी ताकि ‘‘(केंद्र) सरकार और भाजपा को आपके खिलाफ दुष्प्रचार करने का मौका न मिले।’’ 

कश्मीरी पंडितों ने सरकार को चेताया, अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों से लगा सकते हैं गुहार

उन्होंने कहा, ‘‘हम पहले ही सड़कों पर इस योजना का विरोध कर रहे हैं। जैसे ही संसद का सत्र शुरू होगा, हम इस मुद्दे को वहां भी मजबूती से उठाएंगे। सरकार को इस योजना को वापस लेना होगा, इससे कम कुछ भी स्वीकार्य नहीं होगा।’’ राष्ट्रव्यापी विरोध के बावजूद अग्निपथ योजना पर आगे बढऩे के लिए केंद्र की आलोचना करते हुए, सिंह ने दावा किया, ‘‘मोदी सरकार की नयी सैन्य भर्ती योजना सेना के तीनों अंगों में भर्ती होने वाले युवाओं को चार साल की सेवा के बाद बेरोजगार छोड़ देगी बल्कि भारत की सुरक्षा से समझौता भी करेगी।’’ 

अग्निपथ योजना के बचाव में उतरे बाबा रामदेव और श्री श्री रविशंकर  

उन्होंने भाजपा के नेतृत्व वाले केंद्र पर इस योजना को लागू करके देश और सेना को ÞधोखाÞ देने का आरोप लगाया और मांग की कि प्रधानमंत्री अपनी 'गुफा' से बाहर आएं और इसे वापस लेने की घोषणा करें। आप नेता ने कहा, ‘‘मोदी जी देश के युवाओं के गुस्से से मत खेलो। जिस तरह से वे आपको अपने कंधों पर उठाकर सत्ता के शीर्ष पर ले आए, वे अपने वोटों की ताकत से आपकी सरकार को गिरा देंगे।’’      

विजयवर्गीय की टिप्पणी भाजपा की मानसिकता को दर्शाती है: गोपाल राय 
दिल्ली के पर्यावरण मंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के नेता गोपाल राय ने सोमवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी नेता कैलाश विजयवर्गीय की ‘अग्निवीरों’ से संबंधित टिप्पणी भाजपा की मानसिकता को दर्शाती है। विजयवर्गीय ने रविवार को इंदौर में भाजपा कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में अग्निपथ योजना का बचाव करते हुए टिप्पणी की थी कि पार्टी कार्यालय में सुरक्षा गार्ड की नौकरी देने के लिए वह ‘अग्निवीरों’ को प्राथमिकता देंगे। इस योजना को लेर देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन जारी है और कई विपक्षी दलों द्वारा इस योजना को वापस लेने की मांग की जा रही है। 

अग्निपथ के आवेदकों को प्रदर्शन, आगजनी में शामिल नहीं होने के संबंध में देना होगा शपथ पत्र 

अग्निपथ योजना के खिलाफ संयुक्त रोजगार आंदोलन समिति (एसआरएएस) द्वारा यहां जंतर-मंतर पर आयोजित प्रदर्शन में भाग लेने के दौरान राय ने कहा,‘‘भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय की रविवार की टिप्पणी कि भाजपा कार्यालय में सुरक्षा गार्ड की नौकरी देने के लिए वह ‘अग्निवीरों’ को प्राथमिकता देंगे, भाजपा की मानसिकता को दर्शाती है।‘‘ उन्होंने दावा किया कि सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे आकांक्षी युवक इस योजना का विरोध कर रहे हैं, लेकिन सरकार लोगों को शांतिपूर्ण तरीके से विरोध नहीं करने दे रही है।  राय ने कहा,‘‘यह लोकतंत्र की हत्या है, लेकिन यह अग्निपथ योजना के खिलाफ आवाका को रोक नहीं सकती है। अग्निपथ योजना की घोषणा के पांच दिनों के भीतर पांच संशोधन केंद्र सरकार की तैयारी की कमी को दर्शाते हैं।‘‘ 

देश में बेरोजगारी की समस्या है और इसके समाधान के लिए राष्ट्रीय रोजगार नीति बनाना अनिवार्य है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा,‘‘मोदी सरकार अग्निपथ योजना के खिलाफ जंतर-मंतर पर शांतिपूर्ण प्रदर्शनों पर रोक लगाकर अघोषित आपातकाल की स्थिति पैदा कर रही है। आज पूरे जंतर-मंतर को छावनी में बदल दिया गया। लोकतंत्र में असंतोष की आवाका कैसे उठाएं?‘‘ प्रदर्शनकारियों ने विजयवर्गीय की टिप्पणी वाला एक पोस्टर भी जलाया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.