Tuesday, Mar 31, 2020
aap tread wing wrote letter to sitharaman for traders pension scheme in budget 2019

कारोबारियों के लिए केंद्र की पेंशन योजना पर AAP ट्रेड विंग ने उठाए सवाल

  • Updated on 7/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मोदी सरकार (Modi Government) की दूसरी पारी के पहले बजट (Budget 2019) में व्यापारियों के लिए पेंशन की घोषणा पर आम आदमी पार्टी (AAP) की ट्रेड विंग (Trade Wing) ने सवाल खड़े किए हैं। इसको लेकर AAP की ट्रेड विंग ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) को एक खत भी लिखा है। उनका मानना है कि  मोदी सरकार की यह पेंशन योजना पूरी तरह हास्यास्पद और समझ से परे है।

आप ट्रेड विंग के संयोजक बृजेश गोयल ने पत्र लिखकर वित्त मंत्री से कहा कि केंद्र के इस फैसले को लेकर व्यापारियों में भारी असमंजस की स्थिति है। इसलिए मोदी सरकार इस योजना की पुनर्समीक्षा करे।

AAP सरकार ने डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए लिया बड़ा फैसला, अस्पताल में तैनात होंगे मार्शल्स

3 करोड़ व्यापारियों को लाभ का दावा

बता दें कि मोदी सरकार ने पहले आम बजट में सालाना 1.50 करोड़ रुपये से कम टर्नओवर वाले कारोबारियों को प्रधानमंत्री कर्मयोगी मानधन योजना के तहत 3000 रुपये पेंशन की व्यवस्था करने का ऐलान किया था। इसक साथ ही केंद्र का ये दावा है कि इससे करीब 3 करोड़ व्यापारियों को फायदा होगा।

चांदनी चौक: मूर्ति स्थापना से पहले कड़ी सुरक्षा के बीच निकाली जाएगी शोभायात्रा

1.50 करोड़ से कम है व्यापारियों का कारोबार

पेंशन योजना पर AAP ट्रेड विंग को कई आपत्तियां हैं। AAP का कहना है कि अभी तक जीएसटी में रजिस्टर्ड व्यापारियों की संख्या करीब 1 करोड़ है. जिसमें लगभग 60 से 70 लाख ऐसे व्यापारी हैं, जिनका सालाना कारोबार 1.50 करोड़ से कम है, तो केंद्र ये दावा कैसे करता है कि 3 करोड़ व्यापारियों को इस योजना से लाभ होगा? व्यापारी को इसके लिए अलग से कुछ पैसे भी जमा कराने होंगे। जो टैक्स भर रहा है, उससे पैसे क्यों लिए जाएं?

केजरीवाल सरकार ने बदली स्कूलों की सूरत, बच्चे बोल रहे हमारी समाज में बढ़ी इज्जत

ज्यादातर व्यापारी होंगे योजना से बाहर

AAP की ट्रेड विंग का कहना है कि व्यापार करने वाले ज्यादातर व्यापारी 40 साल से अधिक उम्र के हैं। इस कारण ज्यादातर व्यापारी तो इस योजना से बाहर ही हो जायेंगे। इसके अलावा 25-30 साल बाद किसकी सरकार केंद्र में होगी, ये कोई नहीं जानता। पता नहीं उस समय की सरकार इस योजना को जारी भी रखेगी या नहीं. ऐसे में, यह पूरी स्कीम व्यापारियों की समझ से परे है.

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.