Monday, May 10, 2021
-->
aap-women-s-wing-human-chain-in-support-of-farmers-opposing-agricultural-laws-rkdsnt

AAP महिला विंग ने कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में बनाई मानव श्रृंखला

  • Updated on 12/2/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) की महिला शाखा की सैंकड़ों सदस्यों एवं अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं ने केंद्र के तीन कृषि सुधार कानूनों के विरोध में राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर डेरा डाले हुए किसानों के समर्थन में बुधवार को यहां आईटीओ चौराहे पर मानव श्रृंखला बनायी। इस प्रदर्शन की अगुवाई आप की महिला शाखा की अध्यक्ष निर्मला कुमारी ने की।  

दिल्ली पुलिस का कोर्ट में सुझाव : गिरफ्तार जामिया छात्र को परीक्षा के लिए गेस्ट हाउस में रखा जाए

सितंबर में ये इन तीनों कानून बनाये गये थे और सरकार का दावा है कि उनसे बिचौलिये हटेंगे एवं किसान देश में कहीं भी अपनी उपज बेच पायेंगे तथा इस तरह कृषि क्षेत्र में सुधार आयेगा। किसानों को डर है कि इन कानूनों से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था समाप्त हो जाएगी तथा मंडी खत्म हो जाएंगे। हालांकि, सरकार का कहना है कि एमएसपी व्यवस्था जारी रहेगी तथा नये कानून किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए और विकल्प उपलबध करायेंगे। 

एनजीटी ने पटाखों की बिक्री, इस्तेमाल पर पूर्ण रोक लगाने का दिया निर्देश

कुमारी ने कहा कि भाजपा नीत केंद्र सरकार द्वारा पारित किये गये ये कानून किसानों के विरूद्ध हैं और आप इन कानूनों का विरोध करती है। आप की महिला शाखा की प्रदेश प्रभारी सरिता सिंह ने सवाल किया कि ये काले कानून भाजपा सरकार किसानों पर क्यों थोप रही है।

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली जाकर प्रदर्शन करने पर अड़े किसानों को लिया गया हिरासत में

उन्होंने कहा, ‘‘हम अपने देश के किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं। हम मांग करते हैं कि मोदी सरकार तत्काल किसानों की मांगों को सुने और इन कानूनों को वापस ले।’’ पंजाब और हरियाणा के किसान करीब एक सप्ताह से दिल्ली की पांच सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। 

अखिलेश यादव बोले- योगी को हो गया है भाजपा से जनता के मोहभंग का एहसास

 

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.