Wednesday, Jul 24, 2019

सावन के महीने में राशि के अनुसार लगाएं शिव जी भोग, दूर होंगी सभी परेशानियां

  • Updated on 8/2/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सावन का महीना भगवान शिव की पूजा और साधना करने का सबसे पवित्र समय माना जाता है। आज हम सावन में चढ़ाए जाने वाले प्रसाद की महत्वता के बारे में चर्चा करेगें और जानेंगे शिवजी को प्रसाद से प्रसन्न करने का तरीका। आप अपनी राशि के अनुसार भगवान शिव भोग लगाएं तो वो प्रसन्‍न हो जाएंगे और हम पर कृपा बरसाएंगे। आइए आज जानते हैं शिवजी को प्रसन्‍न करने के कुछ आसान से उपाय ...

पाकिस्तान से लेकर कैलिफोर्निया तक विदेशी धरती पर बने हैं शिव के प्राचीन मंदिर

शिवजी को प्रसाद से प्रसन्न करने की मान्यता ये है कि कहा जाता  है की सावन के महीने में यदि कोई सोमवार के दिन भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा करें तो उसके सारे दुखों से मुक्ति मिल जाती है और मनोकामना पूर्ण होती है। शिव हमेशा अपने भक्तों पर कृपा करते हैं। इसलिए मान्यता है कि भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सोमवार को सुबह उठकर स्नान करके भगवान शिव की पूजा करनी चहिए सोमवार के दिन भगवान शिवजी को घी, शक्कर, गेंहू के आटे से बने प्रसाद का भोग लगाना चाहिए। इसके बाद धूप, दीप से आरती करें। अब जानिए अपनी राशि के अनुसार कौन सा भोग या प्रसाद भगवान को चढ़ाया जाए?

मेष राशि - इस राशि वाले व्यक्ति शिवजी को गुड़ चढ़ाएं।

वृष राशि- इस राशि वाले व्यक्ति सफेद मिठाई का प्रसाद लगाएं।

मिथुन राशि- इस राशि वाले व्यक्ति इमरती का प्रसाद चढ़ाएं।

कर्क राशि- इस राशि वाले व्यक्ति पांच प्रकार के सूखे मेवे चढ़ाएं।

सिंह राशि- इस राशि वाले व्यक्ति शिव को खीर का भोग लगाएं।

कन्या राशि-  इस राशि वाले व्यक्ति भगवान शंकर को मालपुए चढ़ाएं।

तुला राशि- इस राशि वाले व्यक्ति दूध मिश्री का भोग लगाएं।

धनु राशि- इस राशि वाले व्यक्ति केसर युक्त पेड़े चढ़ाएं।

वृश्चिक राशि- इस राशि वाले व्यक्ति बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।

मकर राशि- इस राशि वाले व्यक्ति खोपरापाक का प्रसाद शुभ होगा।

कुंभ राशि-  इस राशि वाले व्यक्ति गुलगुले पूरी का भोग लगाएं।

मीन राशि- इस राशि वाले व्यक्ति ड्रायफ्रूट मिश्रित हलवे का भोग लगाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.