Tuesday, Oct 19, 2021
-->
actor and former mp dharmendra said hopefully farmers will get justice today prshnt

किसान- सरकार के बीच बातचीत से पहले बोले धर्मेन्द्र, किसानों को इंसाफ मिलने की उम्मीद

  • Updated on 1/4/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों (New Farm Law) के खिलाफ किसान 40 दिन से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों और सरकार के बीच आठवें दौर की बातचीत से पहले अभिनेता और पूर्व सांसद धर्मेन्द्र (Dharmendra Deol) ने सोमवार को कहा कि, वह दिल से दुआ करते हैं कि इन किसानों को आज इंसाफ मिले। दरअसल भीषण सर्दी और बारिश के बीच हजारों किसान राष्ट्रीय राजधानी से लगी सीमाओं पर करीब एक महीने से ज्यादा समय से केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।     

धर्मेन्द्र ने ट्वीट किया, आज, मेरे किसान भाइयों को इंसाफ मिल जाए। हाथ जोड़कर, जी जान से अरदास करता हूं, हर एक रूह को सुकून मिल जाएगा। 

बता दें कि धर्मेन्द्र ने पहली बार किसान संकट पर अपने विचार व्यक्त नहीं किए हैं। इससे पहले, दिसम्बर में भी धर्मेन्द्र ने केन्द्र से कृषि कानूनों के खिलाफ जारी प्रदर्शन का समाधान खोजने की अपील की थी।     

उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि, मैं अपने किसान भाइयों का दर्द देख काफी दुखी हूं। सरकार को जल्द कुछ करना चाहिए।इस साल सितम्बर में अमल में आए तीनों कानूनों को केन्द्र सरकार ने कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के तौर पर पेश किया है। उसका कहना है कि इन कानूनों के आने से बिचौलिए की भूमिका खत्म हो जाएगी और किसान अपनी उपज देश में कहीं भी बेच सकेंगे।     

कोरोना वैक्सीन बनाने वाला भारत बायोटेक बना चुका है जीका और चिकनगुनिया के लिए टीका

किासनों पर छोड़े गए आंसू गैस के गोले
हरियाणा पुलिस ने दिल्ली की तरफ जा रहे किसानों के एक समूह पर रेवाड़ी जिले के मसानी बांध के पास रविवार की शाम को आंसू गैस के गोले छोड़े थे। किसानों ने बुधला सांगवारी गांव के पास पहले पुलिस बैरीकेड तोड़ डाले और फिर शाम में उन्होंने दिल्ली की तरफ बढने की कोशिश की थी। राजस्थान, हरियाणा और कुछ अन्य स्थानों के किसान पिछले कुछ दिनों से जयपुर-दिल्ली राजमार्ग पर भी प्रदर्शन कर रहे हैं। 

पीएम मोदी ने नेशनल मेट्रोलॉजी कॉन्क्लेव का किया उद्धाटन, भारतीय वैज्ञानिकों को लेकर कही ये बात

पुलिस अधीक्षक ने की पुष्टी
आंसू गैस के गोले दागे जाने की पुष्टि करते हुए पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार ने कहा, प्रदर्शनकारियों ने कहा कि जो लोग आगे बढ़ गए थे, उनके पास पर्याप्त प्रावधान नहीं थे। उन्होंने आगे जाने और एक लंगर स्थापित करने की अनुमति मांगी और उन्हें ऐसा करने की अनुमति दी गई। हालांकि, जब वे वहां पहुंचे तो पूरे समूह ने बैरिकेड्स तोड़कर आगे बढ़ने की कोशिश की।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.