Tuesday, Nov 29, 2022
-->
adani company completed construction of 897 circuit km power transmission line in up rkdsnt

अडाणी कंपनी ने यूपी में पूरा किया 897 सर्किट किमी बिजली ट्रांसमिशन लाइन का निर्माण

  • Updated on 12/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अडाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड (एटीएल) ने उत्तरप्रदेश में 897 सर्किट किलोमीटर पारेषण लाइन का निर्माण पूरा कर लिया है। यह देश में किसी एक राज्य के भीतर सबसे लंबी पारेषण लाइनों में से एक है।

मोदी सरकार ने किया साफ- अनिवार्य सैन्य प्रशिक्षण की जरुरत नहीं

कंपनी ने सोमवार को एक बयान में कहा कि एटीएल की अनुषंगी कंपनी घाटमपुर ट्रांसमिशन लिमिटेड द्वारा स्थापित यह पारेषण लाइन कानपुर जिले में स्थित घाटमपुर तापीय बिजलीघर को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हापुड़ सबस्टेशन से जोड़ेगी। 

अब तक ‘ओमीक्रोन’ के 161 मामले, मनसुख मांडविया ने दी तैयारी की जानकारी

अडाणी ट्रांसमिशन ने कहा, 'कंपनी ने 897 र्सिकट किलोमाटर की देश की किसी एक राज्य के भीतर सबसे लंबी पारेषण लाइनों में से एक का निर्माण पूरा कर लिया है।' कंपनी के अनुसार इस पारेषण लाइन में आगरा, ग्रेटर नोएडा और हापुड़ में चार 765किलो वोल्ट (केवी) और 400 केवी की विद्युत लाइन शामिल हैं। यह परियोजना सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) मॉडल के तहत निर्माण, स्वामित्व, संचालन और रखरखाव के आधार पर तैयार की गई है। 

PMO ने चुनाव सुधारों पर निर्वाचन आयुक्तों के साथ की बातचीत, विपक्ष ने उठाए सवाल

अडाणी ट्रांसमिशन के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी अनिल सरदाना ने बयान में कहा, 'कोविड महामारी के दौरान भी इस बड़ी परियोजना का पूरा होना एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।'

गंगा एक्सप्रेसवे के लिए अडाणी एंटरप्राइजेज को स्वीकृति पत्र
अडाणी समूह की प्रमुख कंपनी अडाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड (एईएल) को गंगा एक्सप्रेसवे के तीन प्रमुख हिस्सों के क्रियान्वयन को लेकर उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण से स्वीकृति पत्र मिला है। कंपनी ने सोमवार को एक बयान में कहा कि इस परियोजना की लागत 17,000 करोड़ रुपये से अधिक है। यह सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के तहत देश की किसी निजी कंपनी को दी गई अब तक की सबसे बड़ी एक्सप्रेसवे परियोजना है। 

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति का दावा - स्वर्ण मंदिर में बेअदबी की कोशिश के पीछे बड़ी साजिश

अडाणी इंटरप्राइजेज ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश में तीन हिस्सों में छह लेन के एक्सप्रेसवे का निर्माण करेगी जो आठ लेन तक बढ़ाया जा सकेगा तथा रियायत की अवधि 30 वर्ष होगी। उत्तर प्रदेश में गंगा एक्सप्रेसवे दरअसल मेरठ को प्रयागराज से जोड़ेगा और डिजाइन, निर्माण, वित्त, संचालन और हस्तांतरण (डीबीएफओटी) के आधार पर लागू होने वाला भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे होगा। बयान में कहा गया है कि कुल 594 किलोमीटर की लंबाई में से अडाणी एंटरप्राइजेज बदायूं से प्रयागराज तक 464 किलोमीटर का निर्माण करेगी। यह एक्सप्रेसवे परियोजना का 80 प्रतिशत हिस्सा है।

पंजाब में AAP के गारंटी वादों से कांग्रेस में हलचल, सिद्धू ने चलाया रोजगार गारंटी मिशन

comments

.
.
.
.
.