Wednesday, Apr 08, 2020
advocate of supreme court written letter to ram mandir trust on behalf muslims in ayodhya

राम मंदिर न्यास से की अयोध्या में कब्रिस्तान की जमीन छोड़ने की अपील

  • Updated on 2/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ अधिवक्ता ने अयोध्या में मुस्लिमों के एक समूह की ओर से राम मंदिर न्यास (Ram Mandir Trust) को पत्र लिखा है और कहा है कि ढहाई गई बाबरी मस्जिद के निकट की पांच एकड़ भूमि को ‘सनातन धर्म’ की खातिर छोड़ दिया जाए क्योंकि वहां पर एक कब्रिस्तान है। अधिवक्ता एम.आर. शमशाद ने पत्र में राम मंदिर जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के सभी 10 न्यासियों को संबोधित किया है। 

मायावती को रास नहीं आया यूपी के लिए योगी सरकार का बजट 2020

इसमें शमशाद ने कहा है कि मुस्लिमों के मुताबिक बाबरी मस्जिद वाले इलाके में ‘गंज शहीदान’ नाम का एक कब्रिस्तान है जहां अयोध्या में 1885 में हुए दंगों में जान गंवाने वाले 75 मुस्लिमों को दफनाया गया था। उन्होंने कहा, ‘‘फैजाबाद गजट में भी इसका जिक्र है।’’ 

छवि सुधारने के लिए #RSS की बंद कमरे में 70 स्तंभकारों के साथ बैठक

अधिवक्ता ने कहा, ‘‘केंद्र सरकार ने भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए मुस्लिमों के कब्रिस्तान का इस्तेमाल नहीं करने के मुद्दे पर विचार नहीं किया। इससे ‘धर्म’ का उल्लंघन हुआ है।’’ इसमें कहा गया, ‘‘सनातन धर्म के धर्मग्रंथों को ध्यान में रखते हुए आपको यह विचार करना होगा कि क्या राम मंदिर की बुनियाद मुस्लिमों की कब्रों पर रखी जा सकती है? अब यह फैसला न्यास के प्रबंधन को लेना है।’’ 

फडणवीस मामले में कोर्ट ने पुनर्विचार याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

पत्र में कहा गया, ‘‘भगवान राम के प्रति पूरे सम्मान और विनम्रता के साथ मैं अनुरोध करता हूं कि ढहाई गई मस्जिद के निकट की करीब चार से पांच एकड़ की उस जमीन का इस्तेमाल नहीं किया जाए जहां मुस्लिमों की कब्रें हैं।’’

#CPI की वृंदा करात ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को बताया ‘राष्ट्रीय सर्वनाश संघ’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.