Wednesday, Dec 08, 2021
-->
afghanistan taliban clearly says will respect women rights under islamic laws rkdsnt

तालिबान ने किया साफ- इस्लामी कानूनों के तहत करेंगे महिलाओं के अधिकारों का सम्मान

  • Updated on 8/17/2021

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। तालिबान ने मंगलवार को इस्लामी कानून के तहत महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करने का वादा किया और अपना विरोध करने वालों को माफी देने तथा सुरक्षित अफगानिस्तान सुनिश्चित करने की घोषणा की। यह घोषणा विश्व के नेताओं और डरे हुए लोगों को यह दिखाने का प्रयास है कि तालिबान अब बदल गया है।   

पीएम मोदी की लोकप्रियता में गिरावट, अमित शाह से बेहतर हैं योगी आदित्यनाथ

 कुछ ही दिनों में पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा करने लेने वाले तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्ला मुजाहिद ने कहा कि संगठन के लड़ाके किसी से बदला नहीं लेना चाहते और सभी को माफी दे दी गई है।     मुजाहिद ने मंगलवार को अपने पहले संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही। वर्षों तक उसके द्वारा विद्रोहियों की ओर से गुपचुप तरीके से बयान जारी किए जाते रहे हैं।   

अफगानिस्तान को लेकर पीएम मोदी की हाई लेवल मीटिंग, बैठक में NSA डोभाल भी

  तालिबान के पिछले शासन (1990 के दशक के अंत में) के दौरान महिलाओं के जीवन और अधिकारों पर कड़ी पाबंदियां देखी गई थीं। ऐसे में तालिबान प्रवक्ता के इस बयान को काफी अहम माना जा रहा है। मुजाहिद ने यह भी कहा कि तालिबान चाहता है कि निजी मीडिया‘‘स्वतंत्र रहे‘‘, लेकिन उसने इस बात को विशेष तौर पर रेखांकित किया कि पत्रकारों को‘‘देश के मूल्यों के खिलाफ काम नहीं करना चाहिए।‘‘

पेगासस मुद्दे पर मोदी सरकार का विस्तार से हलफनामा देने से इनकार, SC का नोटिस जारी

     उन्होंने वादा किया कि विद्रोही (तालिबान) अफगानिस्तान को सुरक्षित कर लेंगे। साथ ही कहा कि जिन लोगों ने पिछली सरकार या विदेशी सरकारों या बलों के साथ काम किया उनसे वह कोई बदला नहीं लेना चाहते।   उन्होंने कहा‘’हम विश्वास दिलाते हैं कि कोई भी उनके दरवाजे पर यह पूछने नहीं जाएगी कि उन्होंने मदद क्यों की।‘‘   

जम्मू कश्मीर : आतंकियों ने की भाजपा नेता की हत्या, विपक्ष ने जताया अफसोस

  इससे पहले तालिबान के सांस्कृतिक आयोग के सदस्य इमानुल्लाह समनगनी ने ऐसा ही वादा करते हुए कहा था कि तालिबान बिना विवरण दिए‘माफी’का विस्तार करेगा और सरकार में शामिल होने के लिए महिलाओं को प्रोत्साहित करेगा। प्रवक्ता ने इस बात पर भी जोर दिया कि अफगानिस्तान किसी दूसरे देश को निशाना बनाने के लिए अपनी जमीन के इस्तेमाल की अनुमति नहीं देगा।  साल 2020 में अमेरिका के साथ हुए समझौते में तालिबान ने इसका वादा भी किया था। इस समझौते के बाद अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी का रास्ता साफ हो गया था।  

   बाबा रामदेव की कंपनी रुचि सोया को FPO के लिए SEBI से मिली हरी झंडी

अफगान नागरिकों को इस बात का डर है कि तालिबान के आने से देश में बर्बर शासन लौट आएगा, जैसा कि उसके पिछले शासन में देखा गया था।  मुजाहिद ने अनेक अफगान लोगों और विदेशी नागरिकों की मुख्य ङ्क्षचताओं को भी दूर करने की कोशिश की और कहा कि महिलाओं को इस्लामी कानून के तहत अधिकार प्रदान किए जाएंगे।  

केंद्र की सुप्रीम कोर्ट में दलील- जजों के लिए राष्ट्रीय स्तर का सुरक्षा बल बनाना प्रैक्टिकल नहीं

वहीं, तालिबान जबकि यह कह रहा है कि वह अपने दुश्मनों को निशाना नहीं बनाएगा, ऐसी खबरें भी हैं कि लड़ाकों के पास उन लोगों की सूची है जिन्होंने सरकार का सहयोग किया और उन्हें वह ढूंढ रहे हैं। इस बीच, तालिबान के कब्जे के बाद जर्मनी ने अफगानिस्तान को दी जाने वाली विकास सहायता रोक दी है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.