Tuesday, Nov 30, 2021
-->
after-100-years-the-idol-of-mother-annapurna-reached-india-musrnt

100 साल बाद मां अन्नपूर्णा की मूर्ति पहुंची भारत, ASI ने UP सरकार को सौंपा

  • Updated on 11/12/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 18वीं सदी की देवी अन्नपूर्णा की मूर्ति आखिर 100 साल से अधिक समय देश से दूर रहने के बाद भारत लौट आई है। मां अन्नपूर्णा का कनाडा से भारत लौटने पर भव्य स्वागत किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन संस्कृति मंत्रालय द्वारा नेशनल मॉडर्न आर्ट गैलरी (एनजीएमए) में किया गया।

इस दौरान केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी. किशन रेड्डी, हरदीप पुरी, धर्मेंद्र प्रधान, महेंद्रनाथ पांडे, बीएल वर्मा, जनरल वीके सिंह, एसएस बघेल, भानू प्रताप, अनुप्रिया सिंह पटेल, मीनाक्षी लेखी, आदेश गुप्ता सहित कई मंत्री व एनजीएमए के महानिदेशक अद्वैत चरन गडनायक मां अन्नपूर्णा की मूर्ति को पालकी में लेकर आए। विधिपूर्वक मूर्ति के पूजन के बाद मूर्ति को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दिया गया।

केंद्रीय मंत्री जी. किशन रेड्डी ने इस मौके पर कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड़ लाभार्थियों को मुफ्त राशन मुहैया करवाया गया है। अब अन्नपूर्णा देवी के आशीर्वाद से हमारे भारतीय किसानों ने अतिरिक्त खाद्यान्न का उत्पादन करना संभव बना दिया है।

उन्होंने कहा कि साल 1976 से अब तक 55 मूर्तियां भारत वापस आ चुकीं हैं जबकि लौटाई गई 75 फीसदी मूर्तियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में वापस आई हैं। 55 पुरावशेषों में से 42 को 2014 के बाद लौटा दिया गया था, जिसमें अन्नपूर्णा देवी भी एक थीं। यूएसए से करीब 157 और प्राचीन वस्तुओं की पहचान की गई है, जो जल्द भारत लौट आएगी।

उन्होंने बताया कि कनाडा से प्राप्त मां अन्नपूर्णा की मूर्ति को काशी विश्वनाथ मंदिर में उनकी सही जगह पर रखा जाएगा। मीनाक्षी लेखी ने कहा कि मां अन्नपूर्णा भारत के सांस्कृतिक प्रतीक हैं, वो कोषाध्यक्ष हैं जो खो गए थे। बता दें कि कनाडा में यह मूर्ति रेजिना विश्वविद्यालय में थी।

छतरपुर मंदिर के पुजारियों ने करवाई पूजा
बता दें कि मां अन्नपूर्णा के आगमन पर एनजीएमए में हुए भव्य कार्यक्रम के दौरान उनकी विधि-विधान से पूजा व भोग लगाने का काम छतरपुर मंदिर के पुजारियों द्वारा किया गया था। इस मौके पर छतरपुर मंदिर के ट्रस्टी जय बतरा व सीईओ डॉ. किशोर चावला भी मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.