Thursday, Aug 13, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 12

Last Updated: Wed Aug 12 2020 10:08 PM

corona virus

Total Cases

2,376,717

Recovered

1,677,599

Deaths

46,779

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA535,601
  • TAMIL NADU314,520
  • ANDHRA PRADESH254,146
  • KARNATAKA196,494
  • NEW DELHI148,504
  • UTTAR PRADESH136,238
  • WEST BENGAL104,326
  • BIHAR90,553
  • TELANGANA84,544
  • GUJARAT74,390
  • ASSAM61,738
  • RAJASTHAN55,482
  • ODISHA50,672
  • HARYANA43,227
  • MADHYA PRADESH40,734
  • KERALA34,331
  • JAMMU & KASHMIR24,897
  • PUNJAB23,903
  • JHARKHAND18,156
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND9,732
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
After all why Lutyens are called the Powerhouse of Power ALBSNT

आखिर लुटियंस को 'पावर का पावरहाउस' क्यों कहा जाता है, जानें विस्तार से

  • Updated on 7/4/2020

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। जहां से धड़कता है दिल्ली (Delhi) और पूरे देश भर में रसूखदारों के ठिकानों के तौर पर पहचान के रुप में स्थापित लुटियंस किसी परिचय का मोहताज नहीं है। आपने दिल्ली दरबार के बारे में तो खूब सुना होगा। आपको बता दें कि यह दरबार सजता है राजधानी के लुटियंस में, जहां बीते सौ साल से बड़े-बड़े सूरमा आए और गए लेकिन इस जगह की आबोहवा बहुत कुछ गवाही दे रही है। कभी अंग्रेज इसी लुटियंस से पूरे भारत पर राज करता था। फिर ब्रिटिश सत्ता का तख्त भी नीचे गिर गया तो उसके बाद देश का शान लुटियंस ही रहा है। इसमें कोई दो राय नहीं है।

5 जुलाई को इस समय लगेगा चंद्र ग्रहण, आप पर पड़ने वाले प्रभाव को इन मंत्रों से करें निष्क्रिय

हमेशा से राजनीतिक हलचल का रहा केंद्र

देश की राजनीतिक हलचल का आजादी के बाद से ही  लुटियंस केंद्र रहा है। सही मायने में लुटियंस दिल्ली की पहचान अपनी एक अलग है। देश के राष्ट्रपति,पीएम ,कैबिनेट मंत्री,संसद सदस्य,नौकरशाह भले ही उनके सामने पूर्व लग जाए लेकिन लुटियंस की चमक में ऐसे आकर्षित हो जाते है कि ताउम्र इनकी गलियों में बीताने की ख्वाईश संजोकर रहते है। ऐसे कई पूर्व सांसद और नौकरशाह है जो अब संसद के किसी सदन का सदस्य नहीं है फिर भी बंगला पर कब्जा जमाए हुए है। लेकिन समय-समय पर केंद्र सरकार ने इन बंगलों के आवंटन के लिये नियमों में भी फैरबदल किये है। मसलन एसपीजी सुरक्षा प्राप्त नेता अपवाद स्वरुप इस लुटियंस के भारी-भरकम बंगले में रह सकते है। 

जानें गोल्डन बाबा के अनछुए पहलू तो पड़ जाएंगे हैरत में...

जब प्रियंका को मिला बंगला खाली करने का नोटिस..

उधर हाल ही में जब प्रियंका गांधी को लोधी एस्टेट स्थित सरकारी बंगला खाली करने का नोटिस मिला तो वो हक्के-बक्के रह गई। कांग्रेस ने इसे विरोधी दलों के साथ भेदभाव का भी आरोप लगाया। लेकिन सरकार का तर्क है कि चूंकि अब प्रियंका गांधी को एसपीजी सुरक्षा प्राप्त नहीं है। लिहाजा उन्हें यह बंगला खाली करना होगा। लेकिन नेताओं के बीच लुटियंस में रहने की होड़ किसी से छिपी नहीं है।

comments

.
.
.
.
.