Sunday, Dec 10, 2023
-->
after jp nadda convoy attacked in bengal amit shah will again go on a two day tour pragnt

प.बंगाल: नड्डा के काफिले पर हमले से गर्माया सियासी माहौल, दो दिन के दौरे पर जाएंगे अमित शाह

  • Updated on 12/12/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल (West bengal) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) के काफिल पर हुए हमले को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने चिंता जताई है। इसी चिंता के मद्देनजर शाह 19 दिसंबर को दो दिनों के लिए बंगाल के दौरे पर जाएंगे। गृह मंत्री के दौरे की जानकारी बीजेपी नेताओं ने दी है। उन्होंने बताया कि अमित शाह 19 और 20 दिसंबर को बंगाल के दौरे पर रहेंगे। मालूम हो कि जेपी नड्डा के काफिले पर हमले के बाद गृह मंत्रालय एक्टिव हो गया है। वहीं शाह के दौरे के बाद माहौल और गर्मा सकता है। 

जेपी नड्डा पर हुए हमले पर बोले अमित शाह, 'बंगाल सरकार को इस हिंसा के लिए जनता को जवाब देना होगा'

शाह ने स्थिति पर जताई चिंता
इससे पहले पूर्व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, 'बंगाल में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के ऊपर हुआ हमला बहुत ही निंदनीय है, उसकी जितनी भी निंदा की जाये वो कम है। केंद्र सरकार इस हमले को पूरी गंभीरता से ले रही है. बंगाल सरकार को इस प्रायोजित हिंसा के लिए प्रदेश की शांतिप्रिय जनता को जवाब देना होगा।'

किसान करेंगे जाम! दिल्ली-जयपुर हाइवे, टोल प्लाजा पर कब्जा जमाएंगे आंदोलनकर्मी

दुखद भी, चिंताजनक भी: शाह
उन्होंने आगे कहा, 'तृणमूल शासन में बंगाल अत्याचार, अराजकता और अंधकार के युग में जा चुका है। टीएमसी के राज में पश्चिम बंगाल के अंदर जिस तरह से राजनीतिक हिंसा को संस्थागत कर चरम सीमा पर पहुंचाया गया है, वो लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास रखने वाले सभी लोगों के लिए दु:खद भी है और चिंताजनक भी।'

प. बंगालः BJP अध्यक्ष नड्डा के काफिले पर पत्थर फेंके गए, विजयवर्गीय के वाहन में तोड़- फोड़

बंगाल में नड्डा के काफिले पर हमला
बता दें कि जेपी नड्डा के काफिले पर गुरुवार सुबह उस समय हमला हुआ जब वह पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में शामिल होने डायमंड हार्बर जा रहे थे। इस दौरान भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय सहित कई नेता घायल हो गए। बुलेट प्रूफ कार में सवार नड्डा को हालांकि कोई नुकसान नहीं पहुंचा। घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने बताया कि तृणमूल कांग्रेस के कथित कार्यकर्ताओं ने दक्षिण 24 परगना जिले में सिराकुल के पास सड़क को अवरुद्ध कर दिया। उनमें से कुछ के हाथों में लाठी-डंडे, लोहे की छड़ें और पत्थर थे। पुलिस ने जब उन्हें हटाने की कोशिश की तो वे भाजपा और मीडिया के खिलाफ नारे लगाते हुए पुलिस से झगड़ने लगे।

पश्चिम बंगाल में रैली के दौरान पुलिस के साथ BJP कार्यकर्ताओं की झड़प, गोली चलने से एक की मौत

कैलाश विजयवर्गीय हुए घायल
उन्होंने बताया कि जैसे ही वहां से काफिले ने गुजरने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारी वाहनों के साथ दौड़ने लगे और उनपर मुक्कों, लाठी-डंडों और लोहे की छड़ों से हमला कर शीशे तोड़ दिए। कुछ किलोमीटर दूर प्रदर्शनकारियों के एक और समूह ने सड़क को रोक दिया। वे काफिले की तरफ बढ़े और इसपर पथराव कर दिया। विजयवर्गीय और पार्टी उपाध्यक्ष मुकुल रॉय के हाथ में चोट आई, जबकि रॉय के सुरक्षाकर्मी के सिर में पत्थर लगा। नड्डा के साथ मौजूद पीटीआई के पत्रकार के अनुसार जब कुछ पत्रकार वाहनों से बाहर निकले तो उन्हें वापस धकेल दिया गया। पुलिस ने आखिरकार प्रदर्शनकारियों को दौड़ाया और नड्डा बैठक स्थल पर पहुंचे।

लगा पोस्टर हुआ विवाद! किसान आंदोलन में उठी उमर- शरजील की रिहाई की मांग

हमले के बाद नड्डा ने कहा ये
नड्डा ने पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा, 'मैंने जो देखा वह हैरान करने वाला और अभूतपूर्व है। पश्चिम बंगाल में पूरी तरह कानून व्यवस्था की स्थिति चरमरा गई है और असिहष्णुता उत्पन्न हो गई है। प्रशासन पूरी तरह विफल हो गया है और गुंडा राज की मौजूदगी है।' भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें इसलिए चोट नहीं आई क्योंकि वह बुलेट प्रूफ कार में थे, लेकिन काफिले में शामिल अन्य लोग हमले की चपेट में आ गए। उन्होंने कहा कि जब इस तरह की घटना भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ हो सकती है तो पार्टी के आम कार्यकर्ता की दशा की कल्पना आसानी से की जा सकती है।

उग्र होगा किसान आंदोलन! पंजाब से 1500 वाहनों में भरकर आ रहे प्रदर्शनकारी

गृह मंत्रालय ने अफसरों को किया तलब, ममता ने कहा- नहीं भेजेंगे
बता दें कि भाजपा प्रमुख जे पी नड्डा के काफिले पर हमला के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव और पुलिस प्रमुख को तलब किए जाने के बावजूद राज्य सरकार ने दोनों अधिकारियों को नई दिल्ली नहीं भेजने का फैसला किया है। यह कदम राज्य और केंद्र के बीच टकराव का नया कारण बन सकता है। मुख्य सचिव अलापन बंदोपाध्याय ने केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला को पत्र लिखकर कहा है कि उन्हें 14 दिसंबर को राज्य के अधिकारियों की मौजूदगी के बिना बैठक करने का अनुरोध करने का निर्देश दिया गया है। इस पत्र के जरिए उन्होंने परोक्ष तौर पर संकेत दिया कि वह महज राज्य सरकार के आदेश का पालन कर रहे हैं।

नड्डा के काफिले पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कथित समर्थकों द्वारा हमले पर राज्यपाल जगदीप धनखड़ की रिपोर्ट के बाद राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति पर स्पष्टीकरण के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बंदोपाध्याय और डीजीपी वीरेंद्र को 14 दिसम्बर को तलब किया है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें..

comments

.
.
.
.
.