Sunday, Sep 26, 2021
-->
after lockdown in india risk of spread of corona virus increases

भारत में लॉकडाउन के बाद भी कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ा, पढ़े खास रिपोर्ट

  • Updated on 3/24/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते भारत के कई राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) जारी है। लेकिन जानकर कहते हैं कि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाले देश भारत में सिर्फ लॉकडाउन लागू करके कोरोना से नहीं बचा जा सकता है। इसके सबसे बड़ा कारण है भारत का वो तबका जो गांवों में रहता है।

दरअसल, लॉकडाउन से पहले कई बड़े रेलवे स्टेशनों पर एक खास वर्ग की भीड़ देखी गई। ये सभी लोग कोरोना के डर से अपने गांव और शहर लौट रहे थे। ऐसे में इस बात का अंदेशा लगाया जा रहा है कि कोरोना वायरस का संक्रमण भारत के ग्रामीण इलाकों तक पहुंच सकता है।

Corona Virus: भारत में जल्द बिगड़ेंगे कोरोना से हालात अगर ये बात नहीं मानी तो...

ऐसे बढ़ा कोरोना का खतरा
भारतीय मेडिकल शोध संघ (ICMR) में वायरोलॉजी के विशेष शोध के पूर्व प्रमुख डॉ. टी जेकब जॉन की माने तो भारत में कोरोना वायरस अभी रुकेगा और 15 अप्रैल तक इसका संक्रमण अपने चरम तक पहुंच जाएगा। दरअसल,  जॉन का मानना है कि लॉकडाउन कर लोगों की जिंदगियां रोक देने का फैसला अच्छा है। लेकिन इससे लोगों को संक्रमण से बचने का समय मिलेगा या नहीं, ये नहीं कहा जा सकता।

उनका कहना है कि भारत अभी कोरोना के महामारी बनने से मात्र दो कदम पीछे हैं और जिस तरह के आसार बन रहे हैं उन्हें देखते हुए यह कहा जा सकता है कि भारत लॉकडाउन का निर्णय लेने में लेट हो गया। अच्छा होता कि यह फैसला एक सप्ताह पहले लिया जाता ताकि ये ग्रामीण भारत में पहुंचने से रुक जाता।

WHO ने दुनिया को चेताया “सिर्फ लॉकडाउन से कम नहीं होगा कोरोना का खतरा”

भयावह हो सकते हैं परिणाम
जॉन इस बात को लेकर भारत को चेताते हैं कि कोरोना का संक्रमण जिस तरह से भारत में फैल रहा है उस हिसाब से कोरोना वायरस से 130 करोड़ की आबादी वाले भारत की 1 फीसदी जनता जल्दी ही इसकी चपेट में आ सकती है। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित 80 लाख वो लोग होंगे जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी है। साथ ही उन्होंने ये भी चेतावनी दी है कि ये मामले बढ़ भी सकते हैं और अगर लॉकडाउन कहीं भी कामयाब रहा तो शायद इसका असर थोड़ा कम हो जाए।

कोरोना के इलाज में मलेरिया की दवा कैसे साबित हुई कारगार, पढ़ें खास रिपोर्ट

रोकना होगा बढ़ता संक्रमण
वहीँ इस बारे में स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि हमारी सबसे बड़ी चुनौती है कि हम संक्रमण की चेन को तोड़ें। पिछले कुछ दिनों में कोरोना के मामले तेजी से सामने आए हैं और ये जागरूकता की कमी के कारण हो सकता है। दरअसल, भारत के ग्रामीण इलाकों में टीवी, स्मार्ट फ़ोन होने के बादजूद कोरोना को लेकर जागरूकता की कमी है। इतना ही नहीं भारत के शहरों में भी लोग उतने जागरूक नहीं है कि वो सामाजिक दूरी बनाये रखने के कांसेप्ट को समझ सकें।  

कोरोना : अब लॉकडाउन तोड़ा तो होगी जेल, जानें क्या हैं नियम

लॉकडाउन से पड़ेगी दोहरी मार
वहीँ, भारत की मध्यमवर्गीय आबादी और ग्रामीण इलाकों की बेरोजगारी को देखते हुए लॉकडाउन नामक व्यवस्था जल्द ही लोगों की कमर तोड़ देगी। एक तरफ जहां देश में बेसिक स्वास्थ्य सेवाएं ना ले पाने वाले लोग हैं तो वहीँ कोरोना के कहर से यह लोग खाने-पीने के भी मोहताज़ हो जाएंगे। ऐसे हालातों में सरकार को ही घर-घर तक राशन आदि पहुंचना होगा। यानी भारत स्लो इकोनॉमिक के दंश को भूल कर जल्द मंदी की तरफ बढ़ सकता है।

 

यहां पढ़ें कोरोना के जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें 

क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

इन आयुर्वेदिक उपायों का करें इस्तेमाल, नहीं आएगा Coronavirus पास 

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार 

कोरोना वायरस: जिम बंद हुए हैं एक्सरसाइज नहीं, 'वर्क फ्रॉम होम' की जगह करें 'वर्कआऊट फ्रॉम होम' 

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें 

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब 

मिल गया Coronavirus का इलाज! जल्द ठीक हो सकेंगे सभी संक्रमित 

लॉक डाऊन है तो फिक्र क्या, बैंक कराएंगे आपके पैसे की होम डिलीवरी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.