Wednesday, Jul 06, 2022
-->
after-returning-the-bill-the-farmers-returned-home-ghazipur-border-became-empty

बिल वापस करवाकर आखिर घर वापस लौटे किसान, गाजीपुर बॉर्डर हुआ खाली

  • Updated on 12/15/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। गाजीपुर बॉर्डर से बुधवार को  किसानों का आखिरी जत्था भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की अगुवाई में मुजफ्फरनगर के लिए रवाना हो गया। इसके साथ ही गाजीपुर बॉर्डर भी किसान आंदोलनकारियों ने खाली कर दिया। बुधवार सुबह अरदास और हवन के बाद पूरे जोशों-खरोश के साथ राकेश टिकैत वापस मुजफ्फरनगर के लिए रवाना हो गए। इस दौरान यूपी गेट से लेकर मुजफ्फरनगर तक उनका कई जगहों पर जोरदार स्वागत हुआ। 

राकेश टिकैत बोले सरकार के पास हैं 2 महीने
गाजीपुर बॉर्डर पर मीडिया से बातचीत में भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार के पास अपनी नीयत को साफ साबित करने के लिए 2 महीनें का समय है। एमएसपी पर कानून के वादे पर किसानों की नजर है। 15 जनवरी को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक होगी। तब तक अगर सरकार अपने वादों पर खरी नहीं उतरती तो आगे की रणनीति पर काम किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने आंदोलन में सहयोग देने वाले सभी किसानों, सफाईकर्मियों, सेवादारों व अन्य का आभार व्यक्त किया। 

देखने लायक था किसानों का जोश 
बुधवार को गाजीपुर बॉर्डर से किसानों के  रवाना होने का कार्यक्रम पहले से तय था। किसानों की घर वापसी के इस सफर का साक्षी बनने के लिए बड़ी संख्या में किसान गाजीपुर बॉर्डर पर जुटे। इस दौरान किसानों को जोश देखने लायक था। इस दौरान वह देशभक्ति और क्रांति से भरे गानों पर जमकर नाचे। किसानों ने एक दूसरे को बधाई दी। 

आंदोलनकारियों ने फतह मार्च से पहले दी यज्ञ में आहुति
किसानों के फतह मार्च से पहले आंदोलन स्थल पर संयुक्त किसान मोर्चा और आर्य समाज राजनगर एक्सटेंशन द्वारा यज्ञ का आयोजन किया गया। भाकियू युवा के राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव टिकैत और संयुक्त किसान मोर्चा गाजीपुर बॉर्डर के प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा यज्ञ के मुख्य यजमान थे। आसपास के क्षेत्र से आए बड़ी संख्या में लोगों ने यज्ञ वेदी पर विराजमान किसानों पर पुष्प वर्षा की और किसान समर्थन में जयघोष किया। इस दौरान आर्य समाज राजनगर एक्सटेंशन के प्रधान प्रमोद धनकड, मंत्री गौरव सिंह आर्य व सौरव रोहल ने यज्ञ संपन्न कराया। 

बाबा का हुक्का भी घर वापस लौटा 
विजय मार्च से पहले किसानों ने एक मारूति इर्टिगा कार को अच्छे से सजाकर उसे तैयार किया। जिसकी छत पर दिवंगत किसान नेता चौधरी महेन्द्र सिंह टिकैत का हुक्का और धातु के बने बेल व किसान की प्रतिमा रखी गईं। इसके साथ ही बाबा टिकैत की अखंड ज्योति भी सिसौली के लिए रवाना हो गई। 

जगह-जगह हुआ स्वागत, राकेश टिकैत हुए भावुक
गाजीपुर बॉर्डर छोड़ते वक्त राकेश टिकैत के समर्थन में लोगों का हुजूम मौजूद रहा। इस दौरान सैकड़ों लोगों ने उनका सम्मान किया। जिसके बाद बॉर्डर छोड़ते वक्त वह कई मौकों पर भावुक होते भी दिखे। गाजीपुर बॉर्डर से निकलने के बाद उनका दुहाई, मुरादनगर व मोदीनगर में जोरदार स्वागत हुआ। जिसके बाद फतह मार्च मेरठ में दाखिल हुआ। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.