Monday, Jan 27, 2020
afzal guru dsp davinder singh jammu kashmir police counter terrorism operations

आतंकियों के साथ गिरफ्तार DSP दविंदर सिंह का क्या है अफजल गुरु से कनेक्शन, जानें पूरा मामला

  • Updated on 1/13/2020

नई दिल्ली/ सौरभ बघेल। अभी कुछ दिनों पहले जम्मू कश्मीर (jammu kashmir) पुलिस ने आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) के चीफ नवीब बाबू (Naveen Babu) के साथ जम्मू-कश्मीर पुलिस के DSP दविंदर सिह (Davinder singh) को गिरफ्तार किया है, इस घटना के बाद कश्मीर में पुलिस की कार्यप्रणाली पर एक बार फिर से सवालियां निशान खड़े हो गए है, और यह सवाल जब और भी गंभीर हो जाते हैं जब मालूम पड़ता है कि डीएसपी दविंदर घाटी में पिछले कई सालों से आतंकवाद निरोधी अभियानों (Counter terrorism operations)
का नेतृत्व कर रहे थे। जो खुद आंतकवादियों के साथ घूमते हुए गिरफ्तार किए गए हैं।  
हिजबुल आतंकियों के साथ DSP गिरफ्तार, एंटी टेरर ऑपरेशन का रहा था हिस्सा

दविंदर को किया गया गिरफ्तार
पुलिस के अनुसार कि डीएसपी इन आतंकवादियों के साथ कार में सफर कर रहे थे। और जब पुलिस ने इस कार को रोकने की कोशिश की तो डीएसपी अपनी वर्दी का रौब दिखाने लगे थे। जिसके बाद मौके पर आईजी (IG) की उपस्थिति के कारण उनकी गिरफ्तारी संभव हो सकी। खबर तो यह भी आयी है कि डीएसपी को इस काम के लिए 12 लाख रुपए की डील की थी। इसके अलावा मीडिया में डीएसपी दविंदर सिंह और अफजल गुरु (Afzal Guru) के कनेक्शन वाली भी कई खबरें चल रही हैं। जिनमें दावा किया जा रहा है कि दविंदर सिंह की संसद हमले में भी महत्वपूर्ण भूमिका थी।  
'लगे रहो केजरीवाल' के सॉन्ग पर तिवारी के बाद मोदी और ट्रंप भी थिरके!

राष्ट्रपति पुरस्कार से हुए हैं सम्मानित
बता दें कि  ऐसा पहली बार नहीं है जब डीएसपी दविंदर चर्चा मैं रहे हैं उन्हें पिछली साल 15 अगस्त को उनकी बहादूरी के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार (President's Award) मिला था। लेकिन इसके बाद और पहले से उनकी कार्यप्रणाली पर कई सवाल उठते रहे हैं। आईजी विजय कुमार (Vijay Kumar) का कहना है कि डीएसपी ने एक जधन्य अपराध किया है। और उनके साथ भी आतंकियों जैसा ही व्यवहार किया जाएगा।
हिंसा से खराब हुई JNU की छवि, कैंपस जाने से परहेज कर रहे हैं कैब- ऑटोरिक्शा चालक

अफजल ने लिया नाम
बता दें 2001 के संसद (Parliament) हमले में अफजल गुरु ने डीएसपी दविंदर सिंह का नाम भी लिया था। अफजल ने अपने वकील को लिखे पत्र में बताया था कि संसद हमले से पहले डीएसपी दविंदर सिंह ने उन्हें एक व्यक्ति को दिल्ली में किराए पर घर दिलाने को कहा था। जिसका नाम मोहम्मद (Mohamed) था। जिसे दिल्ली पुलिस ने बाद में 2001 के संसद हमले का मुख्य आरोपी बताया था।  

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.