Friday, Feb 26, 2021
-->
again-questions-raised-on-pm-cares-fund-100-former-bureaucrats-wrote-letter-albsnt

फिर पीएम-केयर्स फंड पर उठे सवाल,100 पूर्व नौकरशाहों ने लिखा पत्र  

  • Updated on 1/16/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना काल में बनाये गए पीएम केयर्स फंड को लेकर समय-समय पर सवाल उठते रहे है। इसी कड़ी में अब 100 पूर्व नौकरशाहों ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आपत्ति जाहिर की है। इन नौकरशाहों का कहना है कि जिस मकसद से पीएम केयर्स फंड को बनाया गया,उसके उद्देश्य कहीं न कहीं भटक गए है।

पंजाब,हरियाणा के 100 केंद्रों पर चला टीकाकरण अभियान,स्वास्थ्यकर्मियों ने लिया हिस्सा

मालूम हो कि इन नौकरशाहों का सीधा आरोप है कि पीएम केयर्स फंड में पारदर्शिता का अभाव है। इसके लिये सीधे पीएम नरेंद्र मोदी जिम्मेदार है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि चूंकि इस फंड में जिस तरह के पैसे लिये गए फिर खर्च किये गए-उसको लेकर डाटा सार्वजनिक करना चाहिये। उन्होंने कहा कि पीएम पद की गरिमा के अनुरुप पारदर्शिता अपनाकर एक संदेश दिया जाना चाहिये।

लद्दाख में आईटीबीपी के 20 जवानों को लगाया गया कोविड 19 का टीका

बता दें कि जब वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने दस्तक दी तो सरकार ने हर स्तर पर मोर्चा लेने के लिये तैयारी शुरु कर दी। जिसमें फंड की कमी न हो इसके लिये पीएम नरेंद्र मोदी ने पीएम केयर्स फंड बनाया। इस फंड को उस समय उदोगपतियों से लेकर आमजनों तक ने ने हाथों-हाथ लिया। महज 5 दिनों में ही 3076 करोड़ जमा हुए थे। पीएम को पत्र लिखने वालों में पूर्व आईएएस अधिकारियों अनिता अग्निहोत्री, एस पी अंब्रोसे, शरद बेहार, सज्जाद हासन, हर्ष मंदर, पी जॉय ओमेन, अरुणा रॉय, पूर्व राजनयिकों मधु भादुड़ी, के पी फाबियान, देब मुखर्जी, सुजाता सिंह और पूर्व आईपीएस अधिकारियों ए एस दुलात, पी जी जे नंबूदरी तथा जूलिया रीबीरो आदि शामिल है।  

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...


 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.